किया आप जानते हैं भारत की X,Y,Z,Z+,SPG श्रेणी की सुरक्षा के बारे में .

केंंन्द्रीय ग्रह मंत्रलय इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी) की सिफारिश पर हर साल विशिष्ट लोगों की सुरक्षा की समीक्षा करता है. खतरे के स्तर को देखते हुए विशिष्ट और अति विशिष्ट लोगों को विभिन्न स्तर की सुरक्षा प्रदान की जाती है।

                               प्रतीकात्मक चित्र

एसपीजी सुरक्षा: 

यह सुरक्षा का सबसे ऊंचा स्तर होता है .इसमें तैनात कमांडो के पास  अत्याधुनिक हथियार और संचार उपकरण होते हैं .यह सुरक्षा देश के प्रधानमंत्री के पास होती है .

जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा :

स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप की सुरक्षा के बाद जेड प्लस भारत की सर्वोच्च सुरक्षा श्रेणी है. इस श्रेणी में संबंधित विशिष्ट व्यक्ति की सुरक्षा में 36 जवान लगे होते हैं .इसमे 10 से अधिक एनएसजी कमांडो के साथ दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी या सीआरपीएफ के कमांडो और राज्य के पुलिसकर्मी शामिल होते हैं .जेड प्लस सुरक्षा में हर कमांडो मार्शल आर्ट और निहत्थे युद्ध करने की कला में माहिर होते हैं सुरक्षा में लगे एनएसजी कमांडो के पास.एमपी 5 मशीन गन के साथ आधुनिक संचार उपकरण भी होते हैंं .इसके अलावा इनके काफिले में एक जैमर गाड़ी भी होती है जो मोबाइल सिग्नल जाम करने का काम करती है .

जेड श्रेणु की सुरक्षा :

जेड श्रेणी की सुरक्षा में चार से पांच एनएसजी कमांडो सहित कुल 22 सुरक्षा गार्ड होते हैं .इसमे दिल्ली पुलिस ,आईटीबीपी या सीआरपीएफ के कमांडो वा स्थानीया पुलिस कर्मी भी शामिल होते हैं .

वाई श्रेणी की सुरक्षा :

यह सुरक्षा का तीसरा स्तर होता है .कम खतरे वाले लोगोंं को यह सुरक्षा दी जाती हैं जिसमें दो पीएसओ (निजी सुरक्षा गार्ड) भी होते हैं इस श्रेणी में कोई कमांडो नही होता है. देश मे सबसे ज्यादा लोगो को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी जाती है।

एक्स श्रेणी की सुरक्षा :

इस श्रेणी में दो सुरक्षा गार्ड तैनात होते है .जिसमे एक पीएसओ (निजी सुरक्षा गार्ड ) होता है देश में काफी लोगों को एक्स श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त है ।

Leave a Reply