क्या है नागरिक संशोधन विधेयक . What is citizenship amendment bill (CAB) in hindi…

हमारी कोशिश इस लेख में पठको को केवल यह समझाने की है कि आखिर नागरिक संशोधन विधेयक(CAB) आखिर है किया , क़्यो इसका विरोध जगह – जगह हो रहा है . और किया यह बिल लोगों को धर्म के आधार पर बांट रहा है जैसा विपक्ष आरोप लगा रहा है .         

            भारत एक विभिन्नताओं वाला देश है जहां हर धर्म के लोग निवास करते है तथा यह भारतीय संस्कृति में घर आए मेहमान को अतिथि देवो भव कहां जाता है .इसी के आधार पर भारत ने अपने पड़ोसी देशों से आए लोगों को नागरिकता प्रदान की है .

नागरिक संशोधन बिल क्या है (CAB) –

इस बिल के अनुसार बांग्लादेश , पाकिस्तान , अफगानिस्तान जैसे देशों से भारत आने वाले हिन्दू , सिख , जैन ,पारसी , बोद्ध, ईसाई (इसमें मुस्लिम शामिल नही हैं ) कुल छ: धर्मो के लोगों को नागरिकता प्रदान की जाएगी ,तथा अधिनियम 1955 में बदलाब करेगा .
पाकिस्तान,  अफगानिस्तान , बांग्लादेश और आस पास के देशों से आए ईसाई ,जैन ,पारसी , सिख , हिन्दू ,बोद्ध धर्म के वो लोग जो 31 दिसंबर 2014 तक भारत की सीमा में प्रवेश कर लिया था अब वो सभी भारत की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते हैं (मुस्लिम को छोड़ कर ) 

भारत की नागरिकता मिलना होगा आसान – 

CAB के अनुसार अफगानिस्तान, पाकिस्तान , बांग्लादेश ,से जो भी शरणार्थी भारत आएंंगे .(इसमें मुस्लिम शामिल नही है ) उनको भारत की नागरिकता मिलना आसान हो जाएगा . इसके लिए उन्हें कम से कम 6 साल भारत में बिताने होगें . पहले नागरिकता 11 साल रहने पर दी जाती थी .

बिल के विरोध की वजह – 

विपक्ष सहित बुद्धजीवि यह मानते हैं कि सरकार ने जो बिल पास किया है वो भारत की मूल भावना के खिलाफ है .भारत ने कभी भी धर्म के आधार पर लोगो को नही बांटा है . साथ ही उनका मानना है कि यह देश में अराजकता की स्थिति पैदा कर देगा . विपक्ष के साथ अमेरिका ने भी इस बिल पर नाराजगी जताई है .

 पूर्वोत्तर राज्योंं पर बिल का प्रभाव – 

इस बिल को लेकर सबसे ज्यादा विरोध प्रदर्शन पूर्वोत्तर राज्योंं में ही हो रहें हैं CAB से पहले NRC का असम समेत पूर्वोत्तर राज्यों में भारी विरोध हुआ था  .उसके तुरंत बाद CAB लाया गया ,जिसका विरोध पहले से कही बड़े पैमाने पर हो रहा है .इसके विलोध में नार्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन की अगुवाई में पूर्वोत्तर के कई छात्र संगठन इस बिल के विरोध में खडे हैं . यह के लोगों का कहना है कि नागरिकता संशोधन विधेयक उनकी पहचान और उनकी आजीविका में बहुत बडी परेशानी खड़ी हो सकती है .

Leave a Reply