Bruce lee biography in hindi . ब्रूस ली का जीवन परिचय ..

ब्रूस ली , एक ऐसा नाम जो बहुत कम समय में एक महान मार्शल आर्ट और बेहतरीन अभिनेता बने . ब्रूस ली ने कम समय में जितनी बड़ी सफलता हासिल की ,उनका बचपन भी उतनी ही परेशानी में बीता था .

नाम – ब्रूस ली .

जन्म – 27 नवंबर ,1940 .

स्थान – सैन फ्रांसिस्को, कैलिफोर्निया .

पिता – ली होई च्युएन.

मां – ग्रेसा .

पत्नी – लिंडा एमरी .

बच्चे – ब्रैंडन ली , शंनों ली .

मृत्तु – 20 जुलाई ,1973 .

प्रमुख फिल्में – (1) फिस्ट ऑफ़ फ्यूरी (2) द बिग बॉस (3) वे ऑफ़ द ड्रैगन (4) एंटर द ड्रैगन (5) रॉबर्ट क्लाउस (6) द गेम ऑफ़ डेथ .

जीवन की शुरूआत – 

ली के पिता एक ऑपेरा ग्रुप के सदस्य थे जो एक देश से दूसरे देश जाकर ऑपेरा का प्रदर्शन करते थे . उस दौर में इस तरह से भृमण करके अच्छा पैसा कमाया जाता था . ली के समय परिवार सैन फ्रांसिस्को में था . ली का जन्म 27 नवबंर 1940 को सैन फ्रांसिस्को स्थित , चायना टाउन के एक चीनी अस्पताल में हुआ था . ली के जन्म के तीन महीने बाद ली के पिता हांगकांग लौट आए.

जापान के हमले में बचा परिवार – 

हांगकांग आने के कुछ समय बाद जापान ने पर्ल हार्बर पर हमला कर दिया . हमले के बाद  परिवार ने 3 साल 8 महीने जापान की कैद में बिताए .

शुरुआती शिक्षा –

ली की प्राथमिक शिक्षा ला सल्ले कॉलेज के प्राथमिक विद्यालय से शुरू हुई. लेकिन खराब पढ़ाई – लिखाई और गलत व्यवहार के कारण उनको सेटं फ्रांसिस वेवियर कॉलेज भेज दिया गया . लेकिन ली के झंगड़ो से परेशान होकर ,परिवार ने उन्हें सैन फ्रांसिस्को भेजने का फैसला किया जहां उनका जन्म हुआ था . 
18 साल की उम्र में ली वापस लौट आए और यही रहकर उन्होंने आगे की पढ़ाई जारी रखी . ली ने 20 साल की उम्र में हाई स्कूल की शिक्षा पूरी की .

लिंडा एमरी से शादी –

ली अपनी होनी वाली पत्नी लिंडा एमरी से वॉशिगटन विश्वविद्यलय में मिले थे तथा लिंडा एमरी से ली ने 1940 में शादी कर ली .

बच्चे –

लिंडा एमरी ने 1965 को पहले बच्चे ब्रैंडन ली और दूसरे बच्चे शैनल ली को 1969 में जन्म दिया .

1959 में मार्शल आर्ट स्कूल खोला – 

ली एक नॉन क्लासिकल मार्शल आर्टिस्ट थे . इसका मतलब है कि वो किसी एक परम्परागत कुंग – फू को फॉलो नही करते थे . ली ने कुंग – फू की जगह विंग चुन को अपनी आर्ट बनाया . ली अपने स्कूल में बच्चोंं को ” जन फैन गंग फू ” यानि ( ब्रूस ली का कूंग – फू ) सिखाते थे .
उन्हें महान फाइटर सिर्फ उनकी शरीरिक क्षमताओं के चलते ऐसे ही नही माना जाता बल्कि , ली ने मार्शल आर्ट के मूल ढ़ाचे में कुछ ऐसे बदलाव किए जिसकी नीव पर आज के मार्शल आर्ट के फिटनेस शेड्यूल तय होते हैं .

अभिनय के क्षेत्र में – 

ली ने the green hornet टीवी सीरियल में कुल 26 एपिसोड में काम किया . जिसमें वे अपने एक्रोबेटिक और फाइटिंग स्टाइल का प्रदर्शन किया करते थे .
उनकी कुछ फिल्में बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचाने वाली फिल्में हैं 

1971  – fists of fury . 

1972 – the Chinese connection .

1973 – enter the dragon .

रहस्यमय हालातों में ब्रूस ली की मौत – 

ली की अचानक हुई मौत  , ली के चाहने वालों के लिए किसी सदमे से कम नही थी . ली की ताकत और फुर्ती उनकी मौत के 4 दशक बाद भी एक रहस्य है . ली की मौत उनकी फिल्म एंटर द ड्रैगन के पहले ही हो गई थी . उनकी मौत ने तरह – तरह की अफवाहोंं को जन्म दिया .
लेकिन डॉक्टर के अनुसार उनकी मौत की वजह दिमाग की नसों में सूजन बताया गया ,जो अधिक पेन किलर दवा खाने की बजह से हुआ .

ब्रूस ली की रोचक बातें – 

(1) ली एक खतरनाक ड्राईवर थे .
(2) ली 5000 किक की प्रैक्टिस हर दिन करते थे .
(3) टिन कैन में वह अपनी अंगुली से छेद कर देते थे .
(4) ली ने कभी कराटे नही सिखा .
(5) ली ने शरीर में पसीना पैदा करने वाली ग्रंथि को निकलवा दिया था .

एक महान विचारक – 

ली जितने बड़े मार्शल आर्ट्स के ज्ञाता और अभिनेता थे , वे उससे भी कही अधिक एक महान विचारक थे . ली के विचार पढ़ने के बाद एक नया जोश आ जाता है .

10 महान विचार – 

  1. अगर आप किसी चीज के बारे में सोचने में अधिक समय लगाते हैं तो आप उसे कभी नही कर पाएंगे .
  2. अगर तुम कल फिसलना नहींं चाहते ,तो आज सच बोल दो .
  3. अतिरिक्त प्रयास को अपनी दैनिक आदत का हिस्सा बना ले .
  4. कभी भी मुसीबत को , तब तक मुसीबत में ना डाले जब तक मुसीबत ,आपको मुसीबत में ना डाले .
  5. दुनिया के सभी ज्ञान , आत्मज्ञान की ओर ले जाते हैं .
  6. भाड़ में जाए परिस्थतियां में अवसरों को पैदा करता हूं .
  7. सफल योद्धा सिर्फ एक औसत आदमी है ,जिसके पास लेजर जैसा फोकस है .
  8. याद रखिये कोई भी व्यक्ति तब तक नही हारता , जब तक वह हिम्मत नहीं हारता .
  9. मुर्ख अच्छे तर्कों से नही सीख सकता , जो समझदार आदमी मुर्ख के तर्कों से सीख सकता है .
  10. अगर आप जिंदगी से प्यार करते हैं ,तो वक्त बर्वाद मत करों ,क्योंंकि वो वक्त ही है जिससे की जिंदगी बनी होती है .

Leave a Reply