किताबें पढ़ने से मनुष्य में होने वाले बदलाव .

अंग्रेजी में एक कहानी है  दा बेट ( एक शर्त ) . आपने इसे पढ़ी है या पढ़ेंगे तो आपको किताबों की ताकत का अंदाजा हो जाएगा . कहानी के लेखक का नाम चेखोव है और कहानी का सारांश इस प्रकार है.

वकील और बैंकर – 

एक वकील और एक बैंकर शहर की किसी बड़ी पार्टी में शिरकत कर रहे थे . बहुत सारे लोग आए थे और आपस में बातें हो रही थी. तभी अचानक ये मुद्दा किसी ने उछाल दिया कि कौन सी सजा ज्यादा बुरी है –  मृत्युदंड या आजीवन कारावास ? 
उस विषय पर मानो गदर ही मच गया .एक ओर जहां वकील ने आजीवन कारावास को सही और मानवीय बताया तो बैंकर ने  मृत्युदंड की पैरवी की दोनों अडे़ रहे. अंतत: बैंकर ने एक बेट ( शर्त ) रख दी . यदि वकील 15 साल तक एकाकी होकर एक कमरे में बिता लेगा तो बैंकर अपनी सारी संपत्ति वकील को देगा नही तो वकील को बहुत बड़ी रकम देनी होगी .वकील ने शर्त मंजूर कर ली .
अगले दिन उसके लिए एक जेल की तरह दिखने वाले एकाकी कमरे की व्यवस्था की गई . वह अपने कमरे में कुछ भी मंगा सकता था जो उसे छोटे से जगह से दे दी जाएगी .
शुरु के दिनों में वो शराब , तरह – तरह का खाना , संगीत इत्यादि मांगता रहा . थोड़े दिनों बाद वह अकेलेपन और मानसिक तनाव से ग्रसित हो गया . उसे लगा की शर्त हार जाएगा .धीरे धीरे उसने खुद को संभाला .

किताबें – 

वकील अब किताबें पढ़ने लगा .उसने इतिहास , भाषा और विज्ञान से जुड़ी किताबें पढ़ी . धीरे – धीरे उसने किताबों को पढ़ने की संख्या में बढ़ोतरी की . दर्शनशास्त्र , साहित्य , मनोविज्ञान एक – एक करके सब पढ़ गया . देखते – देखते उसने धर्म , समाजशास्त्र और सर एक विषय की किताबें काफी बड़ी संख्या में पढ़ ली और अपना पढ़ना लगातार जारी रखा .
उधर दूसरी तरफ बैंकर दिवालिया होने वाला था . उसे लगा वह शर्त हार जाएगा . और इसी तरह115 साल पूरे होने वाले थे.
15 साल पूरे होने की एक रात पहले बैंकर ने प्लान बनाया कि जब वकील अपने कमरे में सो रहा होगा . वह चुपके से आकर उसे मार देगा और सुबह लोग इसे आत्महत्या समझेंगे .
इस घटना को अंजाम देने के लिए वह रात को निकला ,ये पता चलते ही कि वह सोया है वह घुसा और एक छड़ उठाकर उसे मारने को ही था कि उसे कुछ दिखा . वकील ने टेबल पर कुछ लिखा रखा था . उसने देखा , उसपे लिखा था कि इस 15 सालों में दुनिया भर का ज्ञान उसके मस्तिष्क में है वह बैंकर का शुक्रिया अदा करता है उन किताबों के लिए. वह समझ चुका है कि भौतिक सुख कुछ और नही आत्मिक और दैविक शांति ही जीवन का उद्देश्य है . 
तो बस इसलिए कि कल बैंकर को शर्त में हारे हुए पैसे ना देने पड़े और ना ही उसकी बदनामी हो , वह कल का सूरज उगने से पहले कमरा तोड़ कर चला जाएगा .
बैंकर यह सब पढ़ते ही आंसुओं से भर गया . उसे अपने आप पर तरस आती हैं उसने वकील को चूमा और चला गया .
अगले दिन उस कमरे के गार्ड ने बैंकर को सूचित किया कि वह आदमी भाग गया है. बैंकर तुरंत अंदर जाकर उसका लिखा हुआ पत्र अपनी उठा लेता है और अपनी दराज में रख लेता है .

किताबों का महत्व तथ्यों में – 

  • भिखारियों में भी इंसान नजर आता है .
  • बंदूक और चाकू से अधिक खतरनाक हाथियार शब्द होते हैं इसकी समझ आती है .
  • आखिर चोर चोरी क़्यो करता है ? इसका अर्थ समझ में आता है .
  • गलती करने पर माफी मांगने और गलती होने पर उसे माफ करने का हौसला आता है .
  • कहां पर बोलना है और कितना बोलना है , और कहां पर शांत रहना है इसकी समझ आती है .
  • मां – बाप की कीमत समझ आती है .
  • ब्रेकअप, तलाक ,  प्रियजनोंं की मौत , व्यापार में घाटा .. इन सब बातों से जीवन समाप्त होता है  ” यह गलत फहमी दूर होती है ” यह घटनाएं भी सामान्य लगने लगती हैंं .
  • प्यार और हवस का अंतर समझ में आता है .
  • स्वास्थ्य सबसे अनमोल संपत्ति है यह बात समझ में आने लगती है .
  • असफलता के आगे सफलता है , तथा कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती यह समझ में आता है .
  • जिसके पास करोड़ों की संपत्ति है उसमें गरीब नजर आता है , और जो दिन के 100- 200 कमाता है उस आदमी में अमीर नजर आने लगता है. 
  • जीवन मेंं शिक्षा का महत्व समझ आने लगता है .
  • फिल्मों में नाटक करने वाले कलाकार तो सबको नजर आते हैं , लेकिन रोजमर्रा के जीवन में बहुत लोग अच्छी तरह नाटक कर लेते है यह सिर्फ किताबें पढ़ने वाला अनुभवी व्यक्ति ही पहचान पाता है .
  • किताबें पढ़ने वाले लोगों को जात- पात की जगह मानवता नजर आती है .
  • हारे हुए इंसान को प्रेरित करने से वो इंसान फिर से जीत सकता है , ये बात किताबें पढ़ने वालों को अच्छी तरह से पता होता है .
  • यह भी समझ आती है कि इस दुनिया में 1% अच्छे लोग है और 1% बुरे लोग हैं बचे हुए 98% मतलब हम सब लोग सिर्फ अनुयायी है . जिसमें कुछ लोग अच्छे लोगों का अनुसरण करते है और कुछ लोग बुरे लोगों का अनुसरण करते हैं.
  • किताबें पढ़ने वाले लोग अपना नजरिया साफ रखते है ना कि किसी पर कीचड़ उछालने का काम करते हैं .

Leave a Reply