गांव के वो बिजनेस जिससे लाखों कमा सकते हैं .

गांव में बहुत सारे बिजनेस किये जा सकते हैं वहां पर लागत भी कम आती है . कुछ बिजनेस ऐसे होते हैं जिनका रॉ मटेरियल भी गां में ही मिल जाता है साथ ही मजदूरी भी सस्ती होती है . कुछ ऐसे ही बिजनेस जो गांंव में आसानी से किये जा सकते है और थोडी मेहनत करके आप हजारों से लाखों रुपये हर महीना आसानी से कमा सकते हैं.

केले की खेती –
गांव मे पारम्परिक खेती के अलावा केले की खेती भी कर सकते हैं और एक अच्छा खासा मुनाफा कमा सकते है . केले की खेती का बिजनेस 50 हजार तक के निवेश के साथ शुरु किया जा सकता है केले की खेती से महीने का कम से कम एक लाख से डेढ़ लाख रुपये तक कमाया जा सकता है .

घरेलू आटा चक्की,  वाणिज्यिक आटा चक्की –

गेंहू का आटा भारतीय संस्कृति में सबसे महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थों में से एक है तथा नाना प्रकार की रोटी , डबल रोटी ,पेस्ट्री आदि बनाने का प्रमुख संघटन है . आटे को प्राप्त करने के लिए अनाज को चक्की में पीसा जाता है . आटा पिसाई की इकाईया सर्वाधिक परम्परगत इकाईयों मे से एक है. स्थानीय आवश्यकताओंं तथा बाजार की मांग को देखते हुए विभिन्न स्तरों पर आटा चक्कीयां स्थापित की जा सकती हैं ,जैसे घरेलू आटा चक्की, 

वाणिज्यक आटा चक्की, बेकरी /मिनी फ्लोर मिल तथ रोलर फ्रोलर मिल आदि .

लगभग प्रत्येक ग्राम स्तर पर इस प्रकार की आटा चक्कियां लगाई जा सकती हैं शहरी क्षेत्रोंं के लिए ये उतनी ही उपयोगी है जितनी ग्रामीण क्षेत्रों के लिए यह इकाई कम पूंजी द्वारा छोटे स्तर पर भी प्रराम्भ की जा सकती है तथा सरकार द्वारा यह उघोग , लघुउघोग की सूची में आरक्षित है . इसके लिए आपको गेंहू को खरीदकर उसको अपनी आटा चक्की पर पीसकर पैक करके आसपास सप्लाई कर सकते हैं .

                        फूलों की खेती –

अन्य बिजनेस की तरह आजकल फूलों के बिजनेस को भी गांव में अच्छा बिजनेस माना जाता है . अगर आप एक प्रकृति से प्रेम करने वाले व्यक्ति हैं तो यह आपके लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है. बागबान या नर्सरी में कई प्रकार के पौधे व फूल लगाए जा सकते है जिसके बाद आप   उन्हें बेचकर अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं .
यह आपको सिर्फ पैसे ही नहीं देगा बल्कि उसके साथ – साथ आप को शांति प्रदान करेगा .
फूलों को शादी , जन्मदिन , या फिर किसी भी पार्टी की सजावट के लिए पंसद किया जाता है .

आचार एंव पापड़ का व्यवसाय –

एक समय था जब हर भारतीय परिवार में अचार तथा पापड़ घर पर ही तैयर किये जाते थे , लेकिन जिंदगी की भागदौड़ में अब यह सब ख़त्म हो चुका है .
अब इसने एक अच्छे खासे बिजनेस का रुप ले लिया है . आजकल अचार और पापड़ बनाने का बिजनेस बहुत ही प्रसिद्ध हो चुका है . खासकर यह औरतों के लिए बहुत ही अच्छा बिजनेस है हर शहर , कस्बे और गांव में यह बिजनेस बहुत ही तेजी से बढ़ता जा रहा है . इसकी शुरुआत आप 10000 रुपये से आराम से कर सकते हैं . अगर आपके पास पैसे नहींं है तो आपको इस कार्य के लिए आपको आराम से बैंक से लोन मिल जाएगा .इसे शुरू करने के लिए 4से 6 व्यक्तियों की जरूरत होती है. इसे शुरू कर के घर की महिला और बेरोजगार व्यक्ति आत्मनिर्भर बन सकते है .

मछली पालन –

अगर आप गांव में रहते हैंं और आपके पास कम खेती है तो आप उसमे एक छोटा तालाब बना सकते है . यह आपके लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प है .आप मछली पालन का बिजनेस कर सकते हैं. सरकार भी इसके लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रही है और मछली पालन के लिए आपको बैंक से लोन भी मिल जाएगा . सबसे अहम बात यह है कि एक बार संपर्क हो जाने के बाद आपको कही जाने की जरुरत नहीं है व्यापारी खुद आ कर और तालाब से मछली निकालने और ले जाने का काम खुद ही करते हैं .तो ऐसे में मछली पालन आपके लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प बन जाता है .

जानवरों के खाने के उत्पाद –

एनिमल फीड को आप जानवरों का खाना कह सकते हैं , जो कि अधिकांश डेरी ,पोल्ट्री फार्म, तथा मछली पालन वाले करते है .आजकल एनिमल फीड , का बड़े स्तर पर उपयोग और उत्पादन हो रहा हैं . जो आपके लिए एक अच्छा विकल्प प्रदान करती है अगर आप ऐसे क्षेत्र से संबंध रखते है जहां मुर्गी पालन , डेरी या मछली पालन का काम होता है तो यह आपके लिए एक अच्छा विकल्प है . 

मुर्गी पालन –

मुर्गी पालन का व्यवसाय हमेशा से मुनाफे का बिजनेस रहा है . तथा आज के समय में बहुत तेजी से बढ़ रहा है पोल्ट्री फार्म बिजनेस को आप एक छोटे दर्जे के बिजनेस में देख सकते है , इसमे मुनाफा उम्मीद से अधिक है . जो आपका जीवन बदलने की क्षमता रखता है . इसके लिए लगभग आपको एक लाख रुपये की जरुरत पडेगी जिसके बाद आपने अच्छे से मेहनत की तो यह बिजनेस बहुत ही तेजी से ग्रो करेगा . क्योंंकि दिन प्रतिदिन नॉन वेज खाने वालों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है जिसके साथ मुर्गियों की खपत भी बढ़ती जा रही है .

रजाई एवं कंबल बनाने का व्यवसाय- 

अगर सीजनल तौर पर देखें तो आपके लिए बहुत ही अच्छा  व्यवसाय है , क्योंंकि ठंडी के दिनों में रजाई , कंबल और गद्दों की माग बढ़ जाती है , जो आपके लिए बहुत ही अच्छा अवसर प्रदान करती है क्योंंकि इनकी जरूरत सभी को होती है इसके लिए आपको बस यह सीखना होती है की कच्चा माल सही दाम पर कैसे खरीदना होता है . फिर आप रजाई कंबल और गद्दे बनाकर भी अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं .

घर निर्माण की सामग्री –

आजकल लोगों के बढ़ते घर निर्माण के साथ घर बनाने की सामग्री की मांग भी बढ़ती जा रही है . जो घर बनाता है उसको लगभग हर सामान शहर से खरीदना होता है यादि आपके गांव की आबादी अच्छी खासी है तो यहां बिजनेस एक अच्छा मुनाफा कमा कर देता है . अगर आपके पास एक बड़ा स्टोर है तो इस सामान से आप पैसा कमा सकते है . उस स्टोर मेंं आप स्लैब मशीन ,चादर ,पाइप ,प्लेट ,स्पोर्ट ,पोल , सीमेंट आदि रख सकते है .

राइस प्रोसेसिंग मिल – 

अगर आप राइस प्रोसेसिंग मिल शुरु करते हैं तो आप कुल 4 लाख रुपये का प्रोजेक्ट कॉस्ट में यह यूनिट लगा सकते हैं . इसमें लगभग 25 फीसदी पैसे का इंतजाम करना होगा ,बाकी का आपको लोन मिल जाएगा . प्रोजेक्ट के तहत आप लगभग 370 कुंटल राइस प्रोसेसिंग कर सकते है . इसका कॉस्ट ऑफ़ प्रोडक्ट लगभग 4 लाख 50 हजार रुपये आएगा ,जबकि यदि आप सारा माल आगे बेच देते हैं तो आपकी सेल्स लगभग 5 लाख 50 हजार रुपये .यानि लगभग 1 लाख रुपये का मुनाफा .

डेरी व्यवसाय – 

डेरी शुरु करना सबसे आसान कारोबार है हालांकि ,इसके लिए कुछ विशेष ज्ञान की आवश्यकता पड़ती है और इसे बड़े स्तर का  व्यवसाय बनाने के लिए कुछ तकनीकों के प्रयोग की आवश्यकता होती है . कुछ शिक्षित लोग इसे परी योजना के साथ डेरी विज्ञान ,कृषि इससे सबंधित क्षेत्रोंं में डिग्री लेने के बाद कर सकते है . दूध उत्पादन परंपरागत व्यवसाय है . इसलिए किसी को भी दूध और अन्य डेरी उत्पादकों के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंंकि ये किसी भी स्थान पर आसानी से बेचे जा सकते है . डेयरी उत्पादों कि बाजार पूरे साल सक्रिया रहता है .

एलोवेरा –

केले ,फूलों के साथ – साथ एलोवेरा की खेती का बिजनेस भी गांवों के लिए अच्छा बिजनेस विकल्प है . आयुर्वेद की मांग बढ़ने के साथ – साथ जड़ी बूटियों की मांग भी निरतंर तेजी से बढ़ रही है .आजकल लोगों का ध्यान प्रकृतिक चीजों की तरफ ज्यादा है .
एलोवेरा एक खास किस्म का पौधा होता है जिसमे एक खास किस्म का द्रव पाया जाता है जिसके काफी फायदे होते है एलोवेरा का रस त्वचा और पेट के लिए काफी फायदेमंद होता है . इसकी डिमांड भारत में ही नही बल्कि विदेशों में भी काफी ज्यादा है .

कपड़ो पर कढ़ाई –

आजकल हर कोई सुंदर और अच्छे कपड़े पहनना चाहता है क्योंंकि लोग उन्हें पहन कर आकर्षक दिखना चाहते हैं . खासकर औरतों को कढ़ाई वाले कपड़े काफी पसंद आते हैं इसलिए कपड़ो पर कढ़ाई करने का व्यवसाय आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है . खासकर उन हुनरमंद महिलाओं के लिए जो काम की तलाश में तो है पर शहर नही जा सकती . यह उनके लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है .


Leave a Reply