निकोला टेस्ला ? एक महान आविष्कारक . A great scientist Nikola Tesla

निकोला टेस्ला 19 वीं  शताब्दी के महान   अविष्कारकों में से एक थे . हालांकि वो कभी अपने महान प्रतिद्वंदी थॉमस एडिसन जितने लोकप्रिय नहीं हुए .

दिलचस्प बात यह है कि थॉमस एडिसन उनके बॉस थे. जो बिजली की खपत हम लोग करते हैं इसे विकसित करने में क्रोएशियाई इंजीनियर निकोला टेस्ला का बड़ा योगदान था .

” पागल वैज्ञानिक के नाम पर मशहूर अमेरिकी – सर्वियाई अविष्कारक निकोला टेस्ला का जन्म साल 1856 में 10 जुलाई हुआ था .”

अद्भुत शक्ति के मालिक – 

  1. उन्हें तकरीबन 8 भाषाओं का ज्ञान था .
  2. अपनी कल्पना से अविष्कार को बिना कागज पर उतारे उसे पूरा कर देते थे.
  3. टेस्ला ने कभी शादी नहींं की , जिसकी वजह यह थी कि उनके काम में कोई खलल ना डाले .
  4. DC जेनरेटर और मोटर सही करने के लिए थॉमस एडिसन ने टेस्ला को 50 हजार डॉलर का प्रस्ताव दिया था . टेस्ला ने यह कर दिखाया लेकिन फीस मिलने के बजाय फटकार मिली कि टेस्ला तुम अमेरिका का मजाक नही समझ सके .
  5. उन्होंने वायरलैंस कम्युनिकेशन रिमोट कंट्रोल, नियोन लाइट , एक्सरे रडार का आइडिया, एल्टसेटिव करंट , नियाग्रा फॉल पर पहला हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्लांट बनाए.

” एलन मस्क ने अपनी कंपनी को नाम दिया टेस्ला . दक्षिण अफ्रीका – अमेरिकी उघमी एलन मस्क जिन्होंने बिजली से चलने वाली कारों की कंपनी को टेस्ला नाम दिया .

एलन अपनी कंपनी में कार्यकारी निदेशक के रूप में काम कर रहें हैं और उनकी कंपनी विशेष रूप से बिजली से चलने वाली कारे बनाती है .”

निकोला टेस्ला ने विधुत के अविष्कार के अलावा कई तरह की  टेक्नोलॉजी की  भविष्यवाणी की थी , जो दशकों बाद सच साबित होती गई और आने वाले समय में सच होती दिखती है .

निकोला टेस्ला के खून में था अविष्कार –

 अविष्कार निकोला के खून में था . उन्होंने हमारे रोजना के जीवन में इस्तेमाल होने वाली कई चीजों का अविष्कार किया . हमारे घरों को रोशन करने वाली नियोन और फ्लोरिसेन्ट लाइट , लेजर बीम , एसी कंरट , एक्सरे , रोबोटिक्स आदि के अविष्कार में उनका बड़ा योगदान है .

निकोला टेस्ला की भविष्यवाणी –

वाई फाई –

निकोला टेस्ला ने संभावना जताई थी कि पूरी दुनिया में एक दिन टेलिफोन  सिंग्नल ,दस्तावेज ,संगीत की फाइलें और वीडियों भेजने के लिए वायरलैस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल होगा ,और आज वाई फाई के जरिए ऐसा संभव है .

ड्रोन –

निकोला टेस्ला मानते थे कि एक दिन रिमोट से चलने वाली मशीने लोगों की जिंदगी का अहम हिस्सा होगी और ये सच्चाई के रुप में सामने है .
साल 1898 में निकोला ने बिना तार वाला और रिमोट से नियंत्रित होने वाला  ” ऑउटोमेशन ” प्रदर्शित किया . आज हम इसे रिमोट से चलने वाली टॉय शिप या ड्रोन कहते है .

 कॉमर्शियल हाई स्पीड एयरक्राफ्ट –

निकोला टेस्ला कल्पना की थी कि ऐसे एयरक्राफ्ट होंगे जो दुनिया भर में तेज गति से और देशों के बीच कॉमर्शियल रुट पर यात्रा करेंगे . इन एयरक्राफ्ट में बहुत से यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी .

उस वक्त शायद इन बातों को पागलपन समझा होगा ,लेकिन टेस्ला एक बार फिर सही थे . कम से कम गति को लेकर .

निकोला टेस्ला के कुछ अविश्वसनीय तथ्य –

  • टेस्ला कहते थे कि अपनी बुद्धि के अत्यधिक प्रयोग की वजह से उनकी आंखे का रंग गहरे भूरे से हल्का नीला हो गया था .
  • निकोला टेस्ला बचपन से ही बेहद बुद्धिमान थे . वह अक्सर अपने दोस्तों एवम रिश्तेदारों को अपनी फोटोग्राफिक याददाशत से चकित कर देते थे.
  • निकोला टेस्ला का कद 6 फुट 2 इंच था . वह.सदैव एक सज्जन पुरुष की भांति इस्त्री किए हुए कपड़े और बालों को कंघी करके रखते थे . वह एक आकर्षक पुरुष थे जिनसे कई औरतें फिदा होती थी परन्तु वह अजीवन ब्रह्मचारी रहे.
  • टेस्ला का कहना था कि ब्रह्मचर्य उनकी अद्दत  बौद्धिक एवम अविष्कार करने की क्षमता का रहस्य था .
  • निकोला टेस्ला को कॉलेज के तीसरे बर्ष मेन जूए की लत लग गई थी जिसमे उन्हींने अपनी छात्रवृति के सारे पैसे गवा दिए थे . ताज्जुब की बात है कि जूए की लत ने ऐसी महान शख्सियत को अपने पंजों मैं दबोचा था . इस ठोकर को खाने के बाद टेस्ला घर से दूर चले गए थे ताकि उनके पिता को इस बात का पता ना चले .
  • अपने जीवन की अर्ध आयु के बाद उनका कबूतरों से गहरा लगाव हो गया था . कबूतर उनको बेहद प्रिय थे , कुछ  स्रोत तोह यह तक कहते है कि उनका कबूतरों से आकर्षण इतना घनिष्ठ था जितना एक पुरूष को स्त्री से .
  • एक बार एक सफेद कबूतरी बीमार हुई , टेस्ला उसका ख्याल रखते थे . उस कबूतर ने अपना दम टेस्ला की बाहों में ही तोड़ा था , उसकी  मृत्यु से टेस्ला को गहरा सदमा लगा था और उसके पश्चात टेस्ला का मृतक शरीर उनके दफ्तर में मिला था .
  • टेस्ला का कहना था कि उनको अपने अविष्कारोंकी प्रेरणा रहस्यमई रुप से मिलती थी . उन्हें समय समय पर रोशनी की तेज चमक दिखाई पड़ती थी जिसके पश्चात उन्हें यह सब प्रेरणाएं मिलती थी . यह बेहद रोचक तथ्य है क्योंंकि श्रीनिवासरामानुजन भी कुछ इसी तरह रहस्यमई प्रेरणा स्त्रोतों का बखान करते थे . यह चमक उनको कठिन भौतिक एव गणित के सवाल हल करवा देती थी .
  • टेस्ला के पिता अनपढ़ थे परन्तु वह भी अपनी गजब की याददाशत के लिए जाने जाते थे .
  •  वृद्धावस्था में टेस्ला को ऑब्सेसिव कॅप्सिल्व दिसऑडर नामक बीमारी हो गई थी . वह सदैव अपने पास दस से बारह नैपकिन रखते थे और कई बार अपने हाथ धोते थे .
  • उनकी मौत के बाद जी. ट्रम्प ( डोनाल्ड ट्रंप के अंकल) ने उनके ऑफिस में रेड मारी थी . उन्हें डर था कही टेस्ला की डेथ – रे –  टेक्नोलॉजी के दस्तावेज किसी गलत हाथों में ना पड़ जाए . टेस्ला का दावा था कि डेथ – रे  दुश्मन की सेना का पलक झपकते ही सर्वनाश करने में सक्षम थी .

Leave a Reply