पढ़ाई की बेस्ट युक्तियां ( Hacks) जिसे प्रत्येक छात्र को जानना चाहिए.

आप औसत छात्र हो या टॉपर , मगर पक्के तौर पर अगर आप इन युक्तियों का अनुसरण करेंगे तो आप निश्चय ही पढ़ाई में शीर्ष पर होंगे .

” A place for everything and everything in its place” 
मतलब , जिस तरह हम हमाम में नहाते हैं , पूजा घर में पूजा करते हैं ,रसोई घर में खाना बनाते हैं , शयन कक्ष में सोते हैं , ठीक उसी प्रकार पढ़ने लिखने के लिए एक जगह तय करना आवश्यक होता है . इससे यह लाभ होता है कि आप जब भी यहां बैठकर पढ़ाई करते हैं आपके मन में सहज रूप से यह बात घर कर जाती है कि अब पढ़ाई करनी है ,और कोई काम नही .

    ”  क्या आपका ध्यान आसानी से बट जाता है .”

कम लाइट का इस्तेमाल करें –

कम लाइट के इस्तेमाल का अर्थ अंधेरे या धीमी रोशनी से नहीं है इस युक्ति के अनुसार केवल आपकी किताब पर रोशनी से है बाकी जगह कोई रोशनी नहीं और टेबल लैंप से यह काम आसानी से किया जा सकता है .
जरा सोचे कि आप कुर्सी मेज पर बैठकर गणित के प्रश्नों को हल कर रहे हैं.एक सवाल करने के बाद आपकी नजर दायी तरफ पड़ती है और वहां आपको फिजिक्स की किताब दिखती है और आपको याद आता है .

” अरे मैंने तो फिजिक्स का असाइनमेंट अभी तक नही किया है ” 

इसके बाद आप गणित के सवाल छोड़कर फिजिक्स के असाइनमेंट करने लगते है और फिर एक प्रश्न करने के बाद आपकी नजर बायीं ओर केमिस्ट्री की किताब पर पड़ती है और केमिस्ट्री के आसाइनमेंट की भी यही कहानी है.

आप का ध्यान फिर से बट जाता है परिणमस्वरूप आप गणित ,फिजिक्स ,केमिस्ट्री में से किसी का भी असाइनमेंट नही कर पाते है और आपका समय बर्बाद हो जाता है .

इसका इलाज है कि क़्यो ना रौशनी को ही कम कर दिया जाए . हां व्यवधान को कम करने का सबसे अच्छा और सस्ता इलाज है आप की पढ़ाई के दौरान रौशनी उन्हीं किताबों पर होनी चाहिए जिसे आप पढ़ना चाहते है . अन्य किताबों पर नहीं इसके लिए आप को एक टेबल लैंप चाहिए .
यह हर प्रकार के व्यवधान में काम करती है मोबाइल फोन से भी .

ज्यादा पढ़ना चाहते है , पढ़ाई के कमरे से सारी घाडिया उतार दे.

” अरे ये किया , मैं तो दो घंटे से पढ़ रहा हूं चलो अब टीबी देखते है या मोबाइल चलाते हैं ” 
इन तरीके के बहानो का दिमाग में घुस जाने से आप अपनी क्षमता का अधिकतम उपयोग नहीं कर पाएंगे .

आपका दिमाग कभी भी आपके शरीर को नहीं थकाता है यह बात 100% सच है .

एक विषय की तब तक पढ़ाई करें जब तक थक ना जाओ इसके बाद विषय बदल दे और फिर से थकने तक पढ़ाई करे और अपने दिन के लक्ष्य को पूरा करने तक पढ़ाई करते रहें.
हर ऐसी (वो ) चीज , जो आपको अहसास दिलाये कि आपने बहुत पढ़ लिया है , को ख़त्म करना चाहिए. 

याद रखे-

आपने कितने घंटे पढ़ा यह महत्पूर्ण नही है बल्कि कितने विषय पर आपने अच्छी तरह से सीखे है यह ज्यादा महत्पूर्ण है .

सेमेस्टर ख़त्म होने के बाद क्या करे .

एक ब्रेक लें – 

ब्रेक लेने का मतलब दो घंटे का ब्रेक लेकर गेम खेलने से नहींं है इसका मतलब चल रही दैनिक जिंदगी से है . ऐसी अनजान जगह जहांं आप जाना चाहते थे अगर अभी तक नहीं गए है की यात्रा करें . अपने दोस्तों को भी ले जाए और मौज – मस्ती छोड़कर सब भूल जाए केवल मजा करें .

” जिंदगी केवल जन्म – पढ़ाई- शादी – बच्चे – सेवा  सेवा निवृति – मृत्यु ” ही नहीं इससे भी ज्यादा कुछ ओर है .

एक दो सप्ताह के ब्रेक से आपको जिंदगी में  आवश्यक उत्साह मिलता है जो आपने 6 महीने में पढ़ाई करते हुए खो दिया था .
इस उत्साह को अगले सेमेस्टर मेंं की पढाई में शीर्ष आने के लिए इस्तेमाल करे.

किसी विषय पर निपुड़ता कैसे हासिल करे.

पढ़ाई ऐसे करे जैसे 8 साल के बच्चे को पढ़ा रहे है . किसी भी विषय पर अपनी पकड़ बनाने की यह एक बेहतरीन तकनीक है .इसके लिए आप कल्पना करे कि एक छोटा बच्चा आपसे वह टॉपिक सीखना चाहता है जिसे आपने अभी तक पढ़ा है और वह बच्चा इस टॉपिक के बारे में कुछ नहीं जानता है आपकी जिम्मेदारी है कि आप उस बच्चे को किसी भी कीमत पर समझाए .

सबसे बड़ी बात है कि यह बच्चा जटिल टर्म्स के बारे मेंं कुछ भी नही जानता है और आपको सरल भाषा और तरीके से उसको इस टॉपिक के बारे में बताना है .

अगर आप सफलता से वह कर पाते हो तो बधाई हो आप इस टॉपिक को अच्छी तरह से समझ चुके हैं .इस ट्रिक के लिए छात्र के छोटे भाई /बहन है तो यह इनके लिए अनुकूल स्थिति है.

अनुभव के आधार पर कुछ तथ्य –

  • पढ़ने से पहले खाना कम खाएं . अपनी भूख से आधा ही खांए . पढ़ते पढ़ते फिर भूख लग जाए , तो फिर कुछ खा ले . पर याद रखेंं कि भूख से आधा ही खाए .
  • बीच बीच में पानी पीते रहें . चाय जरुरी नही है . दूध ,दही आदि खाने से नींद और आलस आएगा .पीना हो तो कॉफी पी सकते हैं ये भी बहुत ज्यादा ना पीए .
  • कमरे की लाइट बंद करके टेवल लैंप से पढ़ाई करे, इससे आंखोंं पर जोर नही पडे़गा .
  • कुर्सी और मेज की उंचाई सही रखें . कुर्सी की ऊंचाई इतनी हो कि आपकी कोहनी मेज पर आराम से टिक जाए .
  • आरामदायक कपड़े पहनें .
  • अगर गंभीरता से पढ़ना चाहते तो सबके सोने के समय पढ़े जैसे कि दोपहर में , सुबह जल्दी उठ कर या फिर रात को देर से संभव हो तो दोपहर में और सुबह जल्दी पढ़ने का समय बनाएं . इसके लिए रात को जल्दी सोना होगा .
  • बहुत लोगों का मानना है कि विषय बदव-बदल कर पढ़ना चाहिए. लेकिन ऐसा होना  आवश्यक नही है .
  • दिन में एक बार हल्का फुल्का व्यायाम  अवश्य करें . कम से कम योगा और छोटी सी दौड़ तो लगा ही लें . इसके अलावा खेल खेले .
  • सोने से पहले एक गिलास दूध पिए . कुल मिलाकर सेहत का ध्यान रखें .सेहत अच्छी होगी तो पढ़ाई भी अच्छी होगी . एक कहावत भी है कि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है .
  • मोबाइल फोन और सोशल मीडिया का इस्तेमाल कम से कम करें .मेरा  विश्वास करें कि ये लक्ष्य से ध्यान भटकाने की सबसे बडी वजह है . मन पर काबू स्वयं को ही रखना पड़ता है . जिन लोगों ने जिंदगी में बड़े लक्ष्य हासिल किए है उनका मन उनके बहुत हद तक वश में था . मन वश में रहें इसके लिए बिंदु नंबर 8 बड़ा उपयोगी है .
  • अगर आपको कुछ भी याद करना है , जो आपको आसानी से याद नही रहता है आप उन्हें लिख – लिख कर याद करे . ये युक्ति हर किसी पर काम करती है .
  • जितना हो सके रटना बंद कर दे . किताबों को छोड़कर कुछ असली जिंदगी से भी सीखे ।
  • अगर पढ़ाई करते समय आपको किसी चीज पर डाउट हो रहा है तो आप उसे छोडे नही आप जल्द ही उस डाउट को क्लियर करे.

ये युक्तियां तभी कारगर है जब आप वास्तव मेंं पढ़ना चाहते है और शिक्षित होना चाहते हैैं .

इन्हें भी पढ़े –

Leave a Reply