किया होता है लॉकडाउन , कैसे करता है काम ?

कोरोना वारयस से दुनिया के लगभग सभी देश परेशान है ,तथा इससे निपटने के लिए कई देशों ने अपने यह लॉक डाउन लागू कर दिया है .

लॉक डाउन – 

लॉक डाउन एक इमर्जेंसी व्यवस्था होती है . अगर किसी क्षेत्र में लॉक डाउन लागू कर दिया जाता तो इसके तहत उस क्षेत्र के लोगों पर कुछ विशेष पाबंदियांं लागू हो जाती हैं  .जैसे – लॉक डाउन वाले क्षेत्र के लोगों को घरों से निकलने की अनुमति नहीं होती . जीवन के लिए  आवश्यक केवल कुछ चीजों के लिए ही घर से बाहर निकलने की अनुमति होती है .

लॉक डाउन एक आपातकालीन  प्रोटोकॉल है जो आमतौर पर लोगों या सूचना को एक क्षेत्र छोड़ने से रोकता है . एक निवारक लॉक डाउन एक प्रोमेप्टिव एक्शन प्लान है जो लोगों संगठन और प्रणालियोंं की सुरक्षा और सुरक्षा को  सुनिश्चित करने के लिए किसी भी खतरे से बचने के लिए असामान्य  परिदृश्य या सिस्टम की कमजोरी को दूर करने के लिए लागू किया जाता है .

“इमरजेंसी लॉक डाउन तब लागू किया जाता है , जब इंसानों की जान को खतरा हो या उन्हें कोई खतरा हो.”

लॉक डाउन में जीवन के लिए आवश्यक केवल कुछ चीजों के लिए ही बाहर निकलने की अनुमति होती है .

जैसे –

यदि किसी को दवा या अनाज की जरुरत है तो आप बाहर जा सकते हैं या फिर अस्पताल और बैंक के जरुरी काम के लिए अनुमति मिल सकती हैं ,छोटे बच्चों तथा बुजुर्गों की देखभाल के काम से भी बाहर निकलने की अनुमति मिल सकती है.

क़्यो किया जाता है लॉक डाउन –

किसी तरह के जाने अनजाने खतरे से इंसान और किसी इलाके को बचाने के लिए लॉक डाउन किया जाता है , जैसे – कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर कई देशों में लॉक डाउन किया गया है .

कोरोना वायरस का संक्रमण एक से दूसरे इंसान में ना फैले इसके लिए जरुरी है कि लोग घरों से कम से कम बाहर निकले . बाहर निकलने पर लोगों का एक दूसरे के संपर्क में आने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है इसी से बचाव के लिए कई देशों में लॉक डाउन किया गया है तथा कई देशों में लॉक डाउन जैसी स्थिति बन गई हैं .

राज्य में लॉक डाउन –

अगर सरकार को किसी तरह के खतरे से किसी खास क्षेत्र या खास क्षेत्र में इंसानी जिंदगी को बचाने के लिए सरकार वह लॉक डाउन लागू कर सकती है जिससे उस क्षेत्र मेंं   उपस्थित इंसानी जीवन को बचाया जा सके  ,इसके लिए सरकार उस क्षेत्र में एक तरह का कर्फ्यू जैसा लगा देती है . सरकार की तरफ से केवल कुछ विशेष  संस्थाएं जैसे –  हॉस्पिटल , दवा की दुकान ,.खाने -पीने का सामान को छोड़कर सब कुछ बंद करने के निर्देश सरकार की तरफ से जारी होता है . तथा लोगों को भी केवल कुछ खास चीजों के लिए बाहर जाने की अनुमति होती है जैसे  अस्पताल ,दवा , बैंक तथा  खाद पदार्थ के लिए ही बाहर जा सकते हैं .

सरकार की तरफ से ये सब पाबंदियांं खतरे को रोकने तथा खतरे को कम करने के लिए की जाती हैं बाहर निकलने की स्थिति में खतरा बढ़ जाता है तथा जीवन खतरे में पड़ सकता है .

लॉक डाउन में लागू पाबंदियांं –

किसी भी देश के लिए पूरे देश में लॉक डाउन करने के फैसले के तहत सरकारे अपने स्तर पर फैसला लेती है तथा तरह – तरह की पाबंदियांं देश में लागू करती है .

जैसे –

सेमिनारों और कार्यक्रमों पर रोक –

खतरे के स्तर के तहत सरकारे सेमिनारों पर रोक लगा सकती है या फिर इन सेमिनारों में आने वाले लोगों की संख्या सीमित कर सकती है . यह सब संक्रमण के स्तर पर निर्भर करता है कि इस तरह के कार्यक्रमों  मे 10 ,20 ,50 लोग ही इसका हिस्सा बन सकते है .

धार्मिक स्थलों पर प्रतिबंध- 

सरकारे धार्मिक स्थल पर लोगों की संख्या सीमित कर सकती है , सरकारे मंदिरों मस्जिदों ,चर्च , गुरुद्वारा सहित सभी प्रकार धार्मिक स्थलों पर लोगों के एकत्र होने पर प्रतिबंध लगा सकती है .

सिनेमा हॉल तथा मॉल पर प्रतिबंध –

सरकारे खतरे के स्तर के तहत सिनेमा तथा मॉल को बंद करा देती है जहां पर भीड़ एकत्र होती है इस तरह के सारे प्रतिबंध सरकारे लोगों का जीवन बचाने के लिए करती हैं .

विमानों की आवाजाही पर रोक –

सरकारे दूसरे देश से आने वाले यात्री विमानों तथा अपने देश से दूसरे देश में जाने वाले यात्री विमानों की आवाजाही पर  प्रतिबंध लगा सकती है .

 सार्वजनिक वाहनों के चलने पर रोक –

सरकार देश में चलने वाले सार्वजनिक वाहन खतरा टलने तक बंद करा सकती है .

कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन वाले देश –

चीन- कोरोना वायरस संक्रमण का मामला सबसे पहले चीन के वुहान शहर में सामने आने के बाद सबसे पहले वुहान शहर में लॉक डाउन चीन की सरकार ने किया , जिसके तहत लोगों को घरों पर ही रहने की सलह दी गई तथा चीन के दूसरे शहरों को वुहान से काट दिया गया. वुहान शहर में आवाजाही पूरी तरह बंद कर दी गई. इसके बाद कुछ और शहरों में भी इसी तरह का लॉक डाउन किया गया इसका परिणाम यहां हुआ की चीन में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से कम होने लगा .

इटली – चीन के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित इटली हुआ . इटली में कोरोना वायरस चीन की अपेक्षा कही ज्यादा बड़े स्तर पर फैल गया ,इसके बाद इटली सरकार ने पूरे इटली देश में लॉक डाउन का फैसला किया तथा दुनिया से खुद को अलग कर लिया .

ईरान -चीन,इटली के बाद कोरोना वायरस का सबसे अधिक संक्रमण वाला देश ईरान है . ईरान में भी पूरे देश में लॉक डाउन जारी है तथा दुनिया से कटा हुआ है .

कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए, स्पेन, यूरोप , अमेरिका , फ़्रांस में भी कई शहरों में लॉक डाउन लागू है तथा वायरस को रोकने के लिए हर  संभव कोशिश की जा रही है .

कोरोना वायरस से पहले कहां- कहां हुआ था लॉक डाउन –

9/11 – 9/11 के आंतकी हमले के बाद अमेरिका में तीन दिन का लॉक डाउन किया गया था .

19 अप्रैल बोस्टन -दिसंबर 2013 में बोस्टन में आतंकियों की खोज के लिए लॉक डाउन किया था .

बुसेल्स -2015 में पूरे शहर को लॉक डाउन किया गया था.

Leave a Reply