गुजरातियोंं के अमीर होने की कहानी ? . आप भी सीख सकते हैं.

गुजरातियों के अमीर होने के बारे में तो हम सभी लोग जानते हैं, लेकिन क्या आप जानते है गुजरातियों के अमीर होने की वजह .

सबसे पहले तो उन लोगों को इस बात को समझना होगा जो अपने आप को बिजनेस में बुलंदियों पर देखना चाहते है साथ ही अमीर बनने की इच्छा रखते हैं. अमीरी हमेशा बिजनेस से ही आती है ,नौकरी में आप एक अच्छा पैसा तो पा सकते हैं लेकिन आपका यह पैसा भी बिजनेस करने वालों के मुकाबले कुछ भी नही होगा. आप देख सकते कि दुनिया में जितने भी अमीर लोगों के नाम आप जानते है वो सब के सब बिजनेस से जुड़े हुए हैं. उनमे कोई भी नौकरी पेशा नही होगा .

अब बात करते हैं अपने शीर्षक की कि गुजराती बिजनेस में सफल कैसे होते है या गुजराती इतने अमीर कैसे होते है .

” गुजरात में भारत की सिर्फ 5%  जनसंख्या ही निवास करती है फिर भी भारत में 25% आयत अकेले गुजरात ही करता है जिसमें 25% कॉटन उत्पादन ,25% दूध उत्पादन गुजरात ही करता है साथ ही दुनिया का 80% हीरा गुजरात में पॉलिश होता है , 27% दवाईया गुजरात में ही बनती है , पेट्रोलियम रिफाइनरी सबसे बड़ी गुजरात में ही है.

गुजरातियों की सफलता के 30 प्रमुख कारण –

  • गुजरात के लोगों के अमीर बनने का सबसे बड़ा और शुरुआती कारण है गुजरात की भौलोलिक स्थिति है , चूंकि गुजरात के पास 1600 किलोमीटर का सबसे बड़ा समुद्र तट है जो भारत का सबसे बड़ासमुद्र तट है और यह भारत में अतंरराष्ट्रीय व्यापार का सबसे प्रमुख केंद्र है . यहां सदियों से व्यापार होता रहा है जिसके कारण लोगों को व्यापार के मौके मिलते रहते है साथ ही व्यापार यहां के लोगों के रग -रग में बस गया और यही से गुजरातियों की अमीरी की शुरुआत होती है .
  • गुजराती कभी किसी बड़ी कॉर्पोरेट कंपनी में नौकरी करने की जगह खुद का व्यापार करना चुनेगा चाहे वह छोटी सी दुकान ही क़्यो ना  हो , इसमेंं सबसे बड़ी बात होती है आप की मेहनत का फायदा आप को ही मिलेगा ,आप जितनी मेहनत करोगे उससे आपका ही भविष्य बेहतर बनेगा .
  • गुजराती लोग रिलेशन जल्दी बना लेते हैं साथ ही मिलनसार होते हैं . वह कम समय में अपनी अच्छी जगह बना लेते हैं . गुजराती थोडे कम शर्मीले होते है इस वजह से काम और मदद आसानी से मांग लेते है . सबसे महत्पूर्ण बात रिलेशन मेन्टेन करने में नुकसान भी उठा लेते हैं यह गुण बिजनेस रिलेशन मेंं महत्पूर्ण भूमिका अदा करता है .
  • वे अपने ग्राहकों से भी ज्यादा बातचीत नहीं करते हैं अगर एक बार आपका काम हो गया तो वे दूसरे ग्राहक के काम में लग जाते है .
  • गुजराती ज्यादा से ज्यादा कमाने की कोशिश करते हैं साथ ही खर्चे कम रखते हैं यह गुण भविष्य के लिए एक अच्छा कदम होता है .
  • गुजराती कभी भी अपने ग्राहक से घमंड से बात नहीं करते और ना ही कभी ग्राहक से बदतमीजी करते है वे जानते हैं कि अगर एक बार ग्राहक उनकी दुकान से गया तो फिर वापस नही आएगा .
  • गुजराती लोग व्यापार में हानि को व्यापार का ही एक अंग मानते है और हानि होने पर मैदान छोड़कर नहीं भागते .
  • गुजराती अपने बिजनेस के राज कभी किसी को नही बताते हैं लेकिन मदद में बहुत में बहुत आगे होते हैं , जब भी लोगों को जरुरत पड़ती है मदद करते हैं लेकिन अपने बिजनेस के राज कभी किसी को नही बताते है .
  • गुजराती बड़ा कमाने की सोचते हैं, वे 10 रुपए की चीज 15 की ना बेचकर 12 की बेचते हैं लेकिन 100 लोगों को बेचते है यानि कम फायदा लेकिन मुनाफा अधिक साथ ही लोगों का विश्वास .
  • गुजराती लोगों की काम की शुरुआत भले ही छोटी क़्यो ना हो लेकिन इनका इरादा अपने बिजनेस को बड़ा से बड़ा करने की होती है . यही सोच इनको आगे ले जाती है .
  • गुजराती लोगों के लिए कोई भी चीज काम में बाधा नही बनती है वे काम की शुरुआत करने के लिए कुछ भी बिजनेस से काम की शुरुआत कर सकते है चाहे वो बिजनेस छोटा ही क़्यो ना हो , उनमे इस बात को लेकर कोई घमंड नही होता है . वे हर काम को समान और सम्मान की दृष्टि से देखते है  . गुजरातियों के लिए कुछ काम ना करना अपमान की बात होती है .
  • गुजराती जानते है कि जीवन में हमेशा अच्छे मौके आते रहते हैं इसलिए ये हमेशा मौके का फायदा उठाने के लिए तैयार रहते हैं और समय आने पर उसका पूरा फायदा भी उठाते है .
  • गुजराती बिजनेस बड़ा करने में जी जान लगा देते है इन्हें कड़ी मेहनत करने की आदत होती है ये बहुत मेहनती होते है .
  • गुजराती बिजनेस में सफल होते है क्योंंकि बिजनेस में होने वाले संभावित नुकसान के लिए वह खुद को पहले से तैयार रखते हैं और उस नुकसान से कैसे उभरना है उसका बैकअप भी तैयार रखते है और अगर वो फेल हो गया तो फिर शून्य से शुरुआत करने में शर्माते नही है .
  • गुजराती मुनाफा कमाने के लिए नए-नए तरीके ढूंढते रहते है तथा समय के साथ -साथ बिजनेस में बदलाव करते रहते हैं और अलग – अलग बिजनेस के लिए कोशिश करते रहते है और ना ही कुछ नया करने से डरते हैं.
  • बिजनेस गुजरातियों के लिए फ़ास्ट प्रायोरिटी होता है . अगर वे खाना खाने बैठे और कोई ग्रहक आ जाता है तो वे अपना खाना छोड़कर पहले अपने ग्राहक की जरुरत पूरा करते है तब खाना खाते है.
  • गुजराती लोग मुश्किल समय में भी अवसर ढूंढ लेते है अगर मंदी का समय चल रहख हो तो ये लोग उसमे भी अपना मुनाफा निकाल लेते हैं .
  • गुजरात के युवाओं को अपना बिजनेस शुरु करने मे उन्हें परिवार से भरपूर सहयोग मिलता है . परिवार का हर सदस्य नया बिजनेस करने वाले सदस्य को अपनी क्षमता के हिसाब से नए बिजनेस में सहयोग करता है .
  • गुजराती लोग बिजनेस में मुनाफा होने पर बिजनेस को एक्सपेंड करने में लग जाते है और पैसों और समय की बर्बादी नहीं करते .
  • गुजराती लोग बिजनेस के मामले में बहुत दूरदर्शी होते है यह बिजनेस जगत पर बहुत करीब से नजर रखते है तथा समय से पहले ही भांप लेते हैं कि कौन सा बिजनेस आने वाले समय में तरक्की करेगा .
  • गुजरात के लोगो की खास बात है कि जहां अन्य राज्योंं के लोग नौकरी की तलाश में होते है वही गुजराती बिजनेस की शुरुआत कर दूसरों को रोजगार देने में लगे होते हैं .
  • कर्ज है तो धीरे-धीरे चुका देंगे . झगड़ा है तो बतचीत कर के सुलझा लेंगे ,कोई मान नही रहा है तो खिला पिला कर झुक कर, सम्मान दे कर रास्ता खोज लेंगे .
  • गुजराती में एक कहावत है ” लालों लाभ वगर ना लोटे ” , मतलब लाला फायदे के बिना ना ही कही रूकेगा और ना ही नाचेगा या फिर ऐसे भी कह सकते है कि जहां पर कमाई के मौके होगे वही गुजराती अधिक समय देगा .
  • गुजराती बहुत धैर्यवान होते है और जल्दी अमीर बनने के फेर में नही रहते है . अगर बिजनेस में हानि हो रही हो तो बिजनेस छोड़ नहीं देते बल्कि फिर से लाभ आने तक कि इंतजार करते है .
  • काम से काम रखना गुजरातियों का सबसे अहम हाथियार है ये फिजूल चीजों में टाइम बर्बाद नहीं करते है .
  • गुजरात में महिलाएंं भी व्यापार में पूरी रुचि रखती है अपने घर के पुरुषों का किसी ना किसी रुप में व्यापार में मदद जरुर करती हैं .
  • गुजराती बचपन से ही व्यापार के लिए अगली पीढ़ी को तैयार करते है मतलब घर के बच्चोंं को छात्र जीवन मेंं ही  स्कूल के बाद मिलने वाले समय में व्यापार में साथ रखकर व्यापार सिखाते हैं .
  • गुजराती अपने ग्राहक से कभी भी दूसरे दुकानदार की बुराई नही करते है ,उनका उद्देस्य केवल अपना माल बेचना होता है .
  • अगर किसी गुजराती की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती तो वे अपने कैरियर की शुरुआत नौकरी से करते है ,चुकी गुजरात बिजनेस का एक बड़ा केन्द्र है इस कारण वह के युवा को किसी दूसरे राज्य से आए युवा के मुकाबले जल्दी नौकरी मिल जाती है .
  • गुजराती लोग जल्दी निर्णय ले लेते है वे जोखिम से नही डरते है .

गुजरात के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य –

(1) गुजरात की आबादी 6 करोड़ है इसके बाद भी सेना में गुजरातियों की संख्या ना के बराबर है .
(2) गुजरात की कोई सैन्य परम्परा नही है .
(3) गुजरात ने बहुत से महान राजनेता पैदा किए है , स्वतंत्रता से पहले हमारे तीन प्रमुख राजनेता , महात्मा गांधी, जिन्ना ,और सरदार पटेल गुजराती थे .
(4) गुजरात ने बेशक बहुत से शहीद पैदा नही किए हो लेकिन सबसे महान गांधी गुजरात की ही देन है .

Leave a Reply