हान राजवंश , जिसने चीन पर 400 साल तक राज किया और दुनिया को दस महत्वपूर्ण आविष्कार दिए.

चीन एक ऐसा देश जो हमेशा चर्चा में रहता है . कभी शीशे के बने पुल के कारण, कभी अपनी दीवार ( दा ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना ) के कारण . बारुद से लेकर चाय तक का आविष्कार चीन में ही हुआ .आज हम बात करते है चीन के हानवंश की जिसने ना केवल चीन पर 400 सालों तक राज किया बल्कि दुनिया को दस महत्वपूर्ण आविष्कार भी ” दिए ” .

हान राजवंश –

 प्रतीकात्मक चित्र.

हानवंश ने चीन पर 206 ईसा पूर्व से 220 ईसा पूर्व तक यानि कि लगभग 400 साल तक राज किया . हानकाल के बीच में 9ईसवी से 23 ईसवी तक शीन राजवंश ने सत्ता हथिया ली थी , पर उसके बाद हानवंश फिर से सत्ता पर पकड़ बनाने में कामयाब हुआ .
हानकाल को चीन का सुनहरा युग कहा जाता है जिसने चीन की संस्कृति पर अपनी अमिट छाप छोड़ी . हानकाल का प्रभाव चीन पर अब भी है .
हान राजवंश के संस्थापक ” लियू बैंग ” थे जिन्होंने देश को एकजुट किया और एक मजबूत केंद्रीयकृत साम्राज्य बनाया . हालांकि , हान अधिकारियों ने व्यापक भूमि जोत रिश्तेदारों और साथियों को पुरस्कार नीति का पालन किया ,और बाद देश के विभाजन का मार्ग प्रशस्त किया .
हान राजवंश के सम्राट ‘क़्यो यु यानी ल्यू बांग ‘ ईसा पूर्व206 से ईसा पूर्व 195 तक सत्ता पर रहे .अपने शासन काल में उस ने केंद्र के शासन को मजबूत करने के लिए सिलसिलेवार जन कल्याण नीतियां अपनाई , जिस से उन का शासन काफी सुदृढ़ हो गया . सम्राट क्यो यु के निधन के बाद सम्राट ” छुई ती ” गद्दी पर बैठा . हुई ती के शासन काल में राज्य की सत्ता असल में क्यो यु रानी राजमाता  ” लती ची ” के हाथ में थी . राजमाता लयी ची लगातार 16 सालों तक शासन करती रही . वह चीन के इतिहास में इने गिने महिला शासकों में से एक थी .

हान राजवंश का ऐतिहासिक महत्व –

हान राजवंश ने कोरिया के खिलाफ पूर्व और उत्तर पूर्व में किआंग जनजातियों के खिलाफ उत्तर और उत्तर- पश्चिम में विजय  – प्रेरित युद्ध किए इस प्रकार साम्राज्य की सीमाओं का विस्तार किया .
हान राजवंश ने ” ग्रेट सिल्क रोड “पर व्यापार खो दिया . 73 ईस्वी में कियान के खिलाफ अभियान में , हुन ने एक मजबूत सेना और ” द ग्रेट सिल्क रोड़ ” एकत्र की 65 सालों तक चीन के लिए बंद हान सेना ने फिर विजय प्राप्त की . उत्तर वियतनाम को सौपने के साथ , भारत को व्यापार मार्ग प्रदान किया . चीन ने पश्चिमी देशों के साथ दक्षिण मार्ग पर नियमित संपर्क स्थापित किया .उन्होंने रोमन साम्राज्य तक भारत और पश्चिम की ओर जाने वाले समुद्री मार्ग का उपयोग किया. जीवंत व्यापार प्रसिद्ध ” ग्रेट सिल्क रोड़”  के माध्यम से किया गया था . विशेष रूप से मध्य एशिया के साथ व्यापार और संचार चीनी व्यापारियों द्वारा रेशम ,चीनी मिट्टी की चीजें ,लौह और लाह को पश्चिम में ले जाया गया . हान राजवंश को चीनी इतिहास में विशेष रूप से कला , राजनीति और प्रौद्योगिकी में एक स्वर्ण युग माना जाता है . 400 सालों तक राज करने वाले हान राजवंश के युग में किए गए प्रमुख  आविष्कार .

हान राजवंश के 10  महत्वपूर्ण आविष्कार –

(1) बारुद –

बारुद की खोज शायद पहली सदी में चीन के हान राजवंश द्वारा की गई थी .उस समय यह एक मिश्रित शोरा , सल्फर , लकड़ी का कोयले का चूरा जोकि बांस की ट्यूब मेंं डाल कर आग में फेक दिया जाता था ,कुछ समय बाद वे एक रॉकेट के रूप में सामने आया .

(2) झूलता पुल – 

हान राजवंश के होनहार करीगरों ने झूलते पुल के विकास को अंजाम दिया था . यह एक प्रकार का सपाट मार्ग था .प्रारंभ में  रस्सियोंं को जोड़कर बनाया जाता था . लेकिन बाद में हान के कुशल इंजीनियरों ने लकड़ी के तख्तों के साथ अधिक परिष्कृत संरचनाओं का निर्माण किया था .( रॉबर्ट टेम्पल के अनुसार ) .

(3) घोड़े की रकाब –

घोड़े की रकाब का भी आविष्कार हान राजवंश के साम्राज्य में ही हुआ था . एक हान राजवंश के आविष्कारक ने कच्चा लोह या कांस्य से यह उपकरण बनाया था ,जिसने घुड़सवारी करना बहुत आसान बना दिया था .

(4) एक पहिया वाला ठेला –

हान राजवंश में ही एक पहिया वाले ठेले का अविष्कार चीन में हुआ था . इस ठेले के आविष्कार से व्यक्ति काफी वजन एक जगह से दूसरी जगह ले जा सकता था ( एम.जे.टी लेविस के अनुसार )

(5) स्क्रीन प्रिंटिंग का आविष्कार –

सिल्क स्क्रीन प्रिंटिंग चीन मेंं ही हुआ , यह 2000 से ज्यादा साल पहले की गई हे . प्राचीन चीन में कीन और हान राजवंशों की शुरुआत में , जो प्रिंटिंग विधि प्रकट हुई . पूर्वी हान राजवंश के लिए जि बाटिक विधि लोकप्रिय है और मुद्रित उत्पादों के स्तर में सुधार हुआ था .

(6) हल का आविष्कार –

चीनी किसान अपने खेतों में लोहे के बड़े ब भारी हल का उपयोग कर रहें थे . लेकिन हान राजवंश के समय में एक ऐसे हल का विकास हुआत्र. जिसने कम ताकत की मदद से भी खेत की जुताई करना आसान हो गया .

(7) कागज –

कागज का आविष्कार भी हान राजवंश के साम्राज्य में ही हुआ था . कागज को चावल की तरह कपड़े से बने एक कीचड़ से बनाया जाता था . फिर कुछ और क्रिया करके सही तरह के कागज का निर्माण किया .

(8) भूकंप डिटेक्टर –

भूकंप डिटेक्टर भी हान राजवंश के साम्राज्य का ही आविष्कार है ,लेकिन यह उसकी गंभीरता का पता नहीं लगा सकता था और ना ही यह उनके  भविष्यवाणी कर सकता था .

(9) चीनी मिट्टी –

चीनी मिट्टी भी हान राजवंश के साम्राज्य की ही खोज है . आज चीनी मिट्टी से वर्तन बनाने और बाथरुम से लेकर चिकित्सा उपकरणों में सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया जाता है .

(10) डीप ड्रिलिंग –

पहली शताब्दी ई०पू० में हान राजवंश ने नमक खनिज ,लोहे के सरियों की मदद से पहले जमीन में लगभग 4,800 फीट तक खुदाई करते थे फिर ट्यूब की मदद से इतनी गहराई से लवण जल बाहर निकालते थे .
इन्हें भी पढ़े –

Leave a Reply