छात्रों के लिए ए.पी.जे . अब्दुल कलाम साहब के अनमोल विचार .

देश के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन के नाम से पहचाने जाने वाले अब्दुल कलाम साहब का जन्म 15 अक्टूबर ,1931 को बेहद साधारण परिवार में हुआ था. बतौर वैज्ञानिक उन्होंने देश को मिसाइल टेक्नोलॉजी में विश्व स्तरीय बना दिया तथा देश को परमाणु संपन्न करने में महत्पूर्ण भूमिका निभाई. देश उनके योगदान को हमेशा याद रखेगा . उनके विचार युवाओं के लिए हमेशा बेहद प्रेरक रहें हैं . ऐसे ही कुछ अनमोल विचारों को आइए अपने जीवन में उतारते हैं .

आइए जानते हैं अब्दुल कलाम साहब के अनमोल विचारों के बारे में.

        

(1) सपने वो नहीं जो हम सोते हुए देखते है, सपने वो है जो हमे सोने नहीं देते .

सपने देखना इंसान के लिए जितना आसान है ,सपने पूरा करना उतना ही कठिन है .लेकिन असंभव नहीं है .जितना समय हम सपने देखने में लगाते हैं यादि उसका आधा भी सपने पूरा करने में लगा दे तो सफलता अवश्य मिलेगी . इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं है हम वो सब कर सकते है जो हम चाहते हैं .

(2) इंसान को कठिनायों की आवश्यकता होती है, क्योंंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये जरुरी है .

बगैर मेहनत के मिली सफलता अधिक समय तक नही रहती है . सफलता का असली आनंद ही तभी प्राप्त होता है ,जब उसके लिए  कड़ी मेहनत की जाए . संघर्ष के बाद मिली सफलता सम्मान के साथ आत्मसुख भी प्रदान करती है . कड़ी मेहनत ही आपको जीवन भर ईमानदार रखती है ,साथ ही दूसरों व्यक्तियों का सम्मान करना सीखाती है .

(3) अपने मिशन में कामयाब होने के लिए, आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकचित्त निष्ठावान होना पडेगा .

युवाओं को अपना लक्ष्य पूर्ण विचार के बाद निर्धारित करना चाहिए . जब लक्ष्य निर्धारित हो जाय तो हमे अपनी पूरी शक्ति के साथ अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए आगे बढ़ना चाहिए .
अपने लक्ष्य प्राप्ति के लिए ईमानदार ,मेहनती तथा अपने आप को पूर्ण रूप से काम के प्रति समर्पित करना होगा . ऐसा कभी नही हो सकता है कि हम जिस कार्य में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं वह हमे बगैर किसी मेहनत के मिल जाए ,और ऐसा भी कभी नही हो सकता जिस कार्य के लिए मेहनत की जाए उसमे सफलता प्राप्त ना हो .

(4) इससे पहले की सपने सच हों आपको सपने देखने होंगे .

सपने हमेशा उन्हीं के सच होते हैं जो सपने देखते हैं . जो इंसान अपने भविष्य के लिए सपने नहीं देखता वह लक्ष्य विहिन भविष्य की तरफ आगे बढ़ता है . इस दुनिया मेंं सपने ही वो चीज है जिसके सहारे इंसान जीवित रहता है . हर दिन हर समय अपने सपनों को हकीकत में बदलने का प्रयास करते रहे . इसलिए सपनों को हकीकत में बदलने के लिए सपने देखना बंद नही करना चाहिए .

(5) इंतजार करने वालों को सिर्फ उतना ही मिलता है ,जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं .

किसी भी कार्य की सफलता केवल और केवल मेहनत पर टिकी होती है . और मेहनत उन्हीं की सफल होती है जो सफलता के लिए कोशिश करते है .कोशिश करने वालों की कभी हार नही होती है . कोशिश करके हम वो सब प्राप्त कर सकते है जो हम चाहते है . और जो हम चाहते हैं उसके लिए कोशिश करना ही सफलता की एकमात्र गारंटी है .

(6) नकली सुख की बजाय ठोस उपलब्धियोंं के पीछे समर्पित रहिये .

किसी भी कार्य के लिए कभी भी छोटा रास्ता नहीं चुनना चाहिए. उस रास्ते पर चलकर आपको सफलता तो जल्दी मिल सकती है ,लेकिन वो स्थाई नहीं होगी . कोई और लम्बे रास्ते पर चलकर कठिनाइयोंं को पार करके ,आपकी नकली व अस्थाई सफलता को पूरी तरह ख़त्म कर देगा . इसलिए  बनावटी व नकली सुख के बजाय ठोस व स्थाई सफलता के लिए प्रयास करना चाहिए .

(7) प्रश्न पूछना , विद्यार्थियों की सभी प्रमुख  विशेषताओंं में से एक है . इसलिए छात्रों सवाल पूछते रहों .

किसी भी देश का युवा उस देश का भविष्य निर्माता होता है . युवाओं को यह हक है कि वह अपने मन में उठ रही  इच्छाओं को न मारे बल्कि मन में उठ रही उत्सुक्ता का निवारण करें . जब युवा किसी बात को लेकर उत्सुक होगा तभी वह उस की ठोस व सही जानकारी प्राप्त कर सकता है . प्रश्न पूछना न केवल आपके मन को शांत रखेगा बल्कि यह अविष्कारोंं की जननी है . इसलिए प्रश्न पूछते रहों .

(8) हमे प्रयत्न करना नहीं छोड़ना चाहिए और समस्याओं से नहीं हारना चाहिए .

इंसान जब तक नहीं हार सकता जब तक वह सफलता के लिए प्रयत्न करता रहेगा . समस्याओं से हार कर बैठ जाने से किसी भी समस्या का समाधान नहीं होगा . किसी भी व्यक्ति की हार उसके बार बार गिर जाने में नहीं है बल्कि उसकी जीत गिर कर हर बार उठ जाने में है . इस दुनिया में ऐसा कोई नही जो कभी अपने जीवन में कभी न कभी असफल न हुआ हो लेकिन उसकी भी सफलता का राज यही है कि उसने फिर से उस सफलता के मेहनत की . इस दुनिया में कोई भी चीज स्थाई नहीं है यह तक की हमारी समस्याएं भी नहीं . इसलिए सफलता के लिए हमेशा प्रयत्न करते रहना चाहिए .

(9) अगर तुम सूरज की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूरज की तरह जलों .

कोयले की खान से निकला हीरा ही तराशने के बाद चमकता है . इस दुनिया में अपनी चमक केवल वही फैला सकता है .जिसने इसके लिए दिन – रात कड़ी मेहनत की हो . सफलता पाना एक दिन का खेल नहीं है .लेकिन खेल ऐसा भी नही है कि खेला ना सके  . कड़ी मेहनत हर मुश्किल को आसान बना देती है .

(10) जब हमारे हस्ताक्षर , ऑटोग्राफ में बदल जाए तो यह सफलता की निशानी है .

जब भीड़ में चलने पर लोग आपको रोक कर आपका नाम पूछने लगे ,तो समझ लेना चाहिए आप सही रास्ते पर हो . यही वो रास्ता है जो आपको आपकी मंजिल तक ले जाएगा .

Leave a Reply