Aristotle Best Quotes ; अरस्तु के महान विचार .

अरस्तु युनान के प्रमुख दार्शनिक थे ,वे प्लेटो के शिष्य व सिकंदर महान के गुरू थे . अरस्तु भौतिकी , आध्यात्मक ,कविता ,नाटक , संगीत , तर्कशास्त्र ,राजनीतिशास्त्र ,नीतिशास्त्र, जीव विज्ञान सहित कई बिषयों के ज्ञाता थे . अरस्तु ने जंतु इतिहास नामक पुस्तक लिखी , इस पुस्तक में लगभग 500 प्रकार के विविध जंतुओं की रचना , स्वभाव , वर्गीकरण, जनन आदि का व्यापक वर्णन कियि था . अरस्तु को Father of Liohogy का सम्मान प्राप्त है . 

आइए जानते हैं महान दार्शनिक अरस्तु के अनमोल विचार .

            

                   

1 – ” गरीबी क्रांति और अपराध की जनक है .” 

                                                                  अरस्तु .

2 – ” ज्ञान की इच्छा रखना मनुष्य का प्राकृतिक स्वरूप है .”

                                                                 अरस्तु .

3 – ” अच्छा व्यवहार सभी गुणों का सार है . “

                                                                अरस्तु .

4 – ” सभी भुगतान युक्त नौकरियां दिमाग को अवशोषित व अयोग्य बनाती हैंं .” 

                                                               अरस्तु .

5 – ” बुरे व्यक्ति पश्चाताप से भरे होते हैं .”

                                                               अरस्तु .

6 – ” मनुष्य सभी जीवों में सबसे उदार है . लेकिन यदि कानून और न्याय ना हों तो वे सबसे खराब बन जाते हैं .”

                                                               अरस्तु .

7 – ” संकोच युवाओं का आभूषण है , लेकिन बड़ी उम्र के लोगों के लिए धिक्कार . ” 

                                                                अरस्तु .

8 – ” जो सभी का मित्र होता है वह किसी का मित्र नही होता है .”

                                                                अरस्तु .

9 – ” शिक्षा की जड़े तो कड़वी हैं लेकिन इसका फल मीठा होता है . ” 

                                                                 अरस्तु .

10 – ” शिक्षित और अशिक्षित में उतना ही अंतर होता है जितना की जीवित और मृत में होता है .” 

                                                                  अरस्तु .

      

         

11 – ” जिसने अपने भय पर विजय प्राप्त कर ली ,वह स्वतंत्र हो जायेगा . ” 

                                                                 अरस्तु .

12 – ” जो जानते हैं वो करते हैं , जो समझते हैं वो पढ़ाते हैं .” 

                                                               अरस्तु .

13 – ” जो व्यक्ति एकांत में प्रसन्न है वो या तो जंगली जानवर है या फिर भगवान . ” 

                                                               अरस्तु .

14 – ” दुश्मनों की दवा है एक सच्चा मित्र .

                                                                अरस्तु .

15 – ” कोई भी क्रोधित हो सकता है . यह आसान है, लेकिन सही व्यक्ति से सही सीमा में सही समय पर और सही उद्देश्य के साथ सही तरीके से क्रोधित होना सभी के बस की बात नहीं है और यह आसान भी नहीं हैं . ” 

                                                                अरस्तु .

16 – ” स्वयं का ज्ञान ही हर ज्ञान / बुद्धिमत्ता की शुरुआत हैं .”

                                                               अरस्तु .

17 – ” विषमता का सबसे बुरा रुप विषम चीजों को एक समान बनना .”

                                                               अरस्तु .

18 – ” चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे शक्तिशाली माध्यम कह सकते हैं .” 

                                                               अरस्तु .

19 – ” कोई भी उस व्यक्ति से प्रेम नही करता जिससे वे डरता है . “

                                                               अरस्तु .

20 – ” सभी भुगतान युक्त नौकरियां दिमाग को अवशोषित और अयोग्य बनाती हैं .” 

                                                             अरस्तु .

Leave a Reply