Maria Sharapova Quotes in hindi ; मारिया शारापोवा के विचार .

टेनिस की इस दिग्गज खिलाड़ी मारिया शारापोवा ने महज 32 साल की उम्र में ही अपने टेनिस करियर को अलविदा कह दिया था . मारिया शारापोवा ने रुस में ही चार साल की उम्र से ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था क्ष. मारिया शारापोवा जितना अपने खेल के लिए प्रसिद्ध थी उतना ही अपनी सुंदरता को लेकर भी . 

तो आइए जानते हैं इस महान टेनिस खिलाड़ी के महत्वपूर्ण कोट्स .

                  

1- ” मेरी सफलता की कुंजी है कि मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और कभी ज्यादा आगे भी नही देखा .” 

                                                       मारिया शारापोवा .

2 – ” मेरा मानना है यदि मैं खुद को पीसती और पीसती रही , तो एक दिन मैं खुद को एक अविश्वसनीय जगह पर ले जाउंगी . ” 

                                                      मारिया शारापोवा .

3- ” हर एथलीट उन बलिदानों को समझ सकता है जो उसने सफल होने के लिए दिए हैं .”

                                                    मारिया शारापोवा .

4 – ” टेनिस ने मुझे दुनिया दिखाई और इसने मुझे बताया कि मैं किस चीज से बनी हूँ .” 

                                                   मारिया शारापोवा .

5 – ” मैं अपने जीवन में अगले अध्याय में चाहे कोई भी रहा चुनूं , मैं हमेशा मेहनत करती रहूंगी , आगे बढ़ती रहूंगी और बेहतर होती रहूंगी . ” 

                                                   मारिया शारापोवा .

6 – ” मैं नही देखती कि मेरे सामने खेलने वाला खिलाड़ी कौन है और उसकी रैंकिंग क्या है .” 

                                                   मारिया शारापोवा .

7 – ” मुझे फर्क नहीं पड़ता सामने कौन खेल रहा है ,मैं केवल अपना वास्तविक खेल खेलती हूँ .” 

                                                 मारिया शारापोवा .

8 – ” टेनिस ने ही मुझे परिवार दिया , टेनिस की वजह से मुझे फैन्स का प्यार मिला .” 

                                                  मारिया शारापोवा .

9 – ” टेनिस को मैंने अपनी जिंदगी दी और टेनिस ने मुझे जिंदगी दी .” 

                                                  मारिया शारापोवा .

10 – ” तड़के उठना , जूते पहनने में दायें से बायें जूते के फीते बांधना और दिन की ( संन्यास वाले दिन ) की पहली गेंद खेलने से पहले कोर्ट का गेट बंद करना , यह कमी कभी पूरी नहीं हो सकती .” 

                                                 मारिया शारापोवा .

इन्हें भी पढ़े –

Leave a Reply