Roger Federer Thoughts In Hindi ; रोजर फेडरर के उच्च विचार .

रोजर फेडरर को व्यापक रूप से इस युग के महानतम एकल खिलाड़ी के रूप में जाना जाता है . रोजर फेडरर ने मात्र छ: साल की उम्र से ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था . नौ साल कीउम्र में वह समूह में खेलने लगे थे . रोजर फेडरर ने सब से अधिक ग्रैंड स्लैम एकल खिताब अपने नाम किए है .

                 

नाम            –     रोजर फेडरर .

जन्म           –    8 अगस्त 1981 .

स्थान          –    बेसल , स्विट्ज़रलैंड .

         

              

1- ” मुश्किल हालातों में मेरी सकारात्मक सोच , मेरी मदद करती है .” 

                                                                रोजर फेडरर .

2- ” आप जिस क्षेत्र में अच्छा करते हो , उसको आप छोड़ना नहीं चाहते और मेरे लिए वह क्षेत्र टेनिस है . ” 

                                                                रोजर फेडरर.

3 – ” आप जिस भी खेल को खेलते हो उसमे सदैव जीतना चाहते हो . ” 

                                                               रोजर फेडरर .

4 – ” मैं केवल रिकॉर्ड बनाने के लिए नही खेलता , आप जो भी खेल खेलों उसे अच्छे से खेलों .” 

                                                              रोजर फेडरर .

5 – ” हम हमेशा सारी चीजों को लेकर सहमत नहीं हो सकते .” 

                                                             रोजर फेडरर .

6 – ” मैं इस बात को स्वीकार करता हूँ कि आज विपक्षी खिलाड़ी मुझसे बेहतर खेला था .”  

                                                            रोजर फेडरर .

7 – ” ये बात सही है जब आप जीतते हो तो सब बढ़िया लगता है इसका मतलब यह नही है कि आप उस खेल को पहले से अधिक पसंद करने लगे हैं .”

                                                           रोजर फेडरर .

8 – ” मेरे लिए एक पति होने की जिम्मेदारी उतनी ही बड़ी है जितना कि एक पिता होने की .” 

                                                          रोजर फेडरर.

9 – ” टेनिस खेलते समय मेरे पिता ने कहा था , तुमको टेनिस में शीर्ष 100 में रहना होगा , जिससे तुम अपने खर्च के लिए पैसा निकाल सको . ” 

                                                          रोजर फेडरर .

10 – ” हर दिन एक ही तरीके से जीना जरूरी नहीं है , एक ही सावर में रोज नहाना जरूरी नहीं है, एक ही  रेस्टोरेंट में खाना जरूरी नहीं है . इसी तरह मुझे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं अभ्यास सुबह 5 बजे करू या रात 10 बजे करु .

                                                          रोजर फेडरर .

Leave a Reply