कैलाश सत्यार्थी के अनमोल उच्च विचार ; Kailash Satyarthi Thoughts & Quotes in Hindi .

इस दुनिया का हर वो बच्चा  खुशनसीब है जिसने अपना बचपन जिया है . वही दूसरी तरफ लाखों करोड़ो बच्चे ऐसे भी है जिन्होंने अपना बचपन मशीनों पर गुजार दिया . वे कभी अपना बचपन ही नही देख पाए . वे ना केवल हंसते खेलते बचपन से दूर रहे , बल्कि वे किताबों की रंग  बिरंगी दुनिया से भी दूर रहें . 

कैलाश सत्यार्थी एक ऐसे ही व्यक्ति है जो इन बच्चोंं का बचपन इन्हें वापस करने का जिम्मा उठा रखा है और अपना पूरा जीवन ऐसे ही बच्चोंं को समर्पित कर दिया . 

आइए जानते हैं कैलाश सत्यार्थी के बच्चोंं के बारे में अनमोल विचार .

    

 1 – ” बच्चोंं को सपने देखने से वंचित रखने से बढ़कर कोई अपराध नहीं है .” 

                                                           कैलाश सत्यार्थी .

2 – ” जब में एक बच्चे को देखता हूँ , तो मुझे उन में भगवान दिखाई देते हैं और उसी भगवान के मैं दर्शन करता हूँ .” 

                                                           कैलाश सत्यार्थी .

3 – ” पिछले कुछ सालों के दौरान नॉर्थ ईस्ट इंडिया बाल तस्करी के सबसे बड़े ठिकाने के रूप में उभरा है .” 

                                                            कैलाश सत्यार्थी.

4 – ” जब भी मैं कभी किसी बच्चे को मुक्त करवाता हूँ , तो मुझे लगता है . कि मैं भगवान के बिल्कुल करीब हूँ .  हालांकि मैं कभी मंदिर नही जाता .” 

                                                             कैलाश सत्यार्थी .

5 – ” हर एक मिनट मायने रखता है , हर एक बच्चा मायने रखता है , हर एक बचपन मायने रखता है .’ 

                                                             कैलाश सत्यार्थी .

6 – ” आर्थिक विकास और मानव विकास साथ – साथ होना चाहिए , मानवीय मूल्यों की वकालत करने की सख्त जरूरत है .” 

                                                           कैलाश सत्यार्थी .

7 – ” मैं सकारात्मक हूँ , कि मैं अपने जीवन काल में बाल श्रम का अंत देख सकता हूँ .” 

                                                            कैलाश सत्यार्थी .

8 – ” बचपन का मतलब होता है सादगी . इस दुनिया को बच्चोंं की नजर से देखो ये बहुत खूबसूरत है .” 

                                                             कैलाश सत्यार्थी .

9 – ” भारत में सैकड़ों  समस्याएं हैं और लाखों समाधान है .” 

                                                             कैलाश सत्यार्थी .

10 – ” मैं एक ऐसी दुनिया का सपना देखता हूँ जहां बाल श्रम ना हो , एक ऐसी दुनिया जिसमे हर बच्चा स्कूल जाता हो , एक ऐसी दुनिया जहां हर बच्चे को उसका मौलिक अधिकार मिले .” 

                                                          कैलाश सत्यार्थी .

11- ” अगर अभी नहीं , तो फिर कब ? अगर तुम नही तो कौन ? अगर इन मौलिक सवालों का जवाब दे सकें तो शायद हम सब मानव गुलामी का दाग मिटा सके .” 

                                                          कैलाश सत्यार्थी .

12 – ” आज मानवता के दरवाजे पर दस्तक देने वाला सबसे बड़ा संकट – असहिष्णुता है .” 

                                                              कैलाश सत्यार्थी .

13 – ” मैं हजारों महात्मा गांधी , मार्टिन लूथर किंग, और नेल्सन मंडेलाओं को आगे बढ़ते और हमें बुलाते हुए देखता हूँ . लड़के और लड़किया शामिल हो गए है , मैं शामिल हो गया  हूँ . हम आपको भी शामिल होने के लिए कहते हैं .” 

                                                             कैलाश सत्यार्थी .

14 – ” बाल श्रम – गरीबी , बेरोजगारी , अशिक्षा , जनसंख्य वृद्धि और अन्य सामाजिक समस्याओं को बढ़ाता है .” 

                                                               कैलाश सत्यार्थी.

15 – अब हर गरीब यह महसूस कर रहा है कि शिक्षा ही वो साधन है जो उन्हें सशक्त बना सकता है .” 

                                                              कैलाश सत्यार्थी .

16- ” बचपन छीन लेना और गुलाम बना कर रखना सबसे बड़े पाप है जो मनुष्य सदियों से करता आ रहा है .”

                                                             कैलाश सत्यार्थी.

17 – ” चलिए हम हमारे बच्चोंं के प्रति करूणा के माध्यम से दुनिया को एक जुट करते हैं ” 

                                                          कैलाश सत्यार्थी.

18 – ” मैं पूरी ताकत से इस बात का समर्थन करता हूँ कि गरीबी को बाल मजदूरी जारी रखने का बहाना नही बनाना चाहिए. इससे गरीबी बढ़ती है . अगर बच्चोंं को शिक्षा से वंचित किया जाता है तो वे गरीब रह जाते हैं .” 

                                                              कैलाश सत्यार्थी .

19 – ” मेरे लिए शांति , हर बच्चे का मौलिक  मानवधिकार है  ये अनिवार्य और दिव्य है .” 

                                                              कैलाश सत्यार्थी .

20 – ” इस आधुनिक दुनिया में  पीड़ित लाखों बच्चोंं की दुर्दशा समझने के लिए मैं नोबल पुरस्कार कमेटी का शुक्रगुजार हूं .” 

                                                              कैलाश सत्यार्थी .

हम सबका फर्ज बनता है कि बच्चोंं को उनकी खुशियां मिले और वह एक निर्भीक निडर जिंदगी जी सके .

Leave a Reply