Ramdhari Singh Dinkar Best Quotes ; रामधारी सिंह दिनकर के अनमोल विचार.

Ramdhari Singh Dinkar हिंदी के प्रमुख लेखक ,कवि व निबंधकार थे . वे आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित है . Ramdhari Singh Dinkar स्वतंत्रता पूर्व एक विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतंत्रता के बाद राष्ट्र कवि के नाम से जाने गये . 

आईए जानते है राष्ट्र कवि Ramdhari Singh Dinkar के विचारों के बारे में .

                       
     
1 – ” कोई प्रशंसा ऐसी नहीं जो मुझे याद रहें , कोई निंदा ऐसी नहीं जो मुझे उभार दे . नास्ति का परिणाम नास्ति है .

Ramdhari Singh Dinkar.

2- ” हम तर्क से पराजित होने वाले नहीं है . हाँ यदि कोई चाहे तो प्यार, त्याग और चरित्र से हमें जीत सकता है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

3 – ”  सूर्यास्त होने तक मत रुको . चीजे तुम्हें त्यागने लगें , उससे पहले तुम्ही उन्हें त्याग दो .”

Ramdhari Singh Dinkar. 

4 – ” जब खुलकर लोग तुम्हारी निंदा करने लगे तब तुम समझो कि तुम्हारी लेखनी सफल हुई .”

Ramdhari Singh Dinkar.

5- ” कवि पर फूल बरसाये जाएं , तो संभव है उनकी  खुशबू उसी समय नष्ट हो जाए .”

Ramdhari Singh Dinkar.

6 – ” लोग हमारी चर्चा ही न करें, यह अधिक बुरा है . वे हमारी निंदा करें , यह कम बुरा है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

7- ” ऐसा कोई काम नहीं करना जिसे छिपाने की आवश्यकता हो , ऐसा कोई राज नहीं जानना जिसकी जानकारी से कोई जवाब देही आती हो .”

Ramdhari Singh Dinkar.

8- ” सुयश के पीछे नहीं दौड़ना , धन के पीछे नहीं दौड़ना जो मिला सो मेरा , जो नहीं मिला वह किसी अधिकारी मानव – बंधु का है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

9 – ” हमारा धर्म पंडितों की नहीं , संतो और  ऋषियों की रचना है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

10 – ” जिस काम से आत्मा सन्तुष्ट रहें उसी से चेतना भी संतुष्ट रहती है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

11 – ” सम्पूर्ण इंसान जाति में भेद नही करता .”

Ramdhari Singh Dinkar.

12- ” इच्छाओं का दामन छोटा मत करो , जिंदगी के फल को दोनों हाथों से दबा कर निचोड़ो .”

Ramdhari Singh Dinkar.

13 – ” ईष्या की बड़ी बहन का नाम है निंदा . जो इंसान ईष्यालु होता है, वही बुरा निंदक भी होता है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

14 – ” दूसरों की निंदा करने से आप अपनी उन्नति  को प्राप्त नही कर सकते . आपकी उन्नति तो तभ ही होगी जब आप अपने आप को सहनशील और अपने अवगुणों को दूर करेंगे .”

Ramdhari Singh Dinkar.

15 – ” जिस इंसान के ह्रदय में भावना न हो , जिसे अपने देश से प्रेम नहीं , उसका ह्रदय ह्रदय नहीं पत्थर है .”

Ramdhari Singh Dinkar.

इन्हें भी पढ़े –

राष्ट्र कवि Ramdhari Singh Dinkar के विचारों को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें .

धन्यवाद .

Leave a Reply