Simone De Beauvoir Quotes ; सिमोन द बोउआर के विचार.

 Simone De Beauvoir दुनिया की पहली नारीवादी चिंतक और विचारक , जिन्होंने स्त्रियों की समस्या को पहली बार इतिहास , विज्ञान और दर्शन के साथ समायोजित कर आर्थिक सामाजिक संदभौं में उसकी व्याख्या की. जिन्होंने अपने विचारों के अनुसार जीवन जीने का साहस भी दिखाया . Simone De Beauvoir की पुस्तक  ” द सेकेंड सेक्स ” आज भी करोड़ों महिलाओं के लिए प्रकाश स्तम्भ की तरह है .

आईए जानते हैं Simone De Beauvoir के विचारों के बारे में .

1 – ” उसके पर कुतर दिए गए और फिर उस पर ये इल्जाम है कि वो उड़ना नहीं जानती .”

Simone De Beauvoir.

2- ” किसी के जीवन का मूल्य तब तक होता है जब होता है जब तक कोई व्यक्ति दूसरों के जीवन के लिए महत्व रखता है.”

Simone De Beauvoir.

3 – ” मर्दों को इंसान समझा गया और औरतों को मादा . जब जब यह मादा इंसानों की तरह बर्ताव करती, इस के सिर पर मर्दों की नकल के इल्जाम होते .”

Simone De Beauvoir.

4- ” मेरी बुद्धिमत्ता , मेरी जरुरते और अपनी जिम्मेदारियों को उठाने में पूरी तरह सक्षम होना  – ये कुछ ऐसी बाते हैं कि कभी भी कोई मुझे पूरी तरह न तो समझ सकता है और न अपने वश में कर सकता है और न ही प्यार कर सकता है . वह सिर्फ मैं हूँ – जिसने खुद को जाना और खुद को चाहा भी है .”

Simone De Beauvoir.

5 – ” आज अपना जीवन बदल दो . भविष्य पर जुआ न खेले , अब बिना देर किए कार्यवाई करें .”

Simone De Beauvoir.

6 – ” अगर आपने लंबी जिंदगी पाई है तो इस उम्र को जीते हुए एक दिन आप पाएंगे कि हर जीत एक न एक दिन गहरी हार में बदल जाती है .”

Simone De Beauvoir.

7 – ” वह इस ब्रह्मांड और यहां तक कि समय के अस्तित्व को भी नकार सकती थी लेकिन किसी भी कीमत पर ये नहीं मान सकती है कि प्यार वास्तविक नही होता .”

Simone De Beauvoir.

8 – ” मैं बेतरह लालची हूँ . मुझे इस जिंदगी से सब कुछ चाहिए . मैं औरत भी होना चाहती हूँ और मर्द भी . मुझे अनगिनत दोस्त चाहिए और मेरा अकेलापन भी , ढेरों काम करने है मुझे और बेहतरीन किताबेंं लिखनी है . खुद की खुशी के लिए यात्राओं पर निकल जाना है . मुझे खुदगर्ज होना है और खुदगर्जी से दूर भी रहना है .”

Simone De Beauvoir.

9 – ” मैं चाहती हूँ कि प्रत्येक मानव जीवन शुद्ध पारदर्शी – स्वतंत्रत हो .”

Simone De Beauvoir.

10 – ” मर्द , औरत से इसलिए नहीं बंधता कि वह औरत को खुशियां दे सके , असल में वह अपनी खुशी की तलाश में औरत के पास जाता है .”

Simone De Beauvoir.

11 – ” यूं तो उसने खुद को इतना साधा कि वह कभी न बदले लेकिन एक किसी दिन ऊंगलियों की एक छुअन भर से वह पिघल उठेगी .”

Simone De Beauvoir.

12 – ” वो दिन : जिस दिन औरत अपनी कमजोरियों से नहीं बल्कि अपनी ताकतों से प्यार करना जान लेगी , जिस दिन वो खुद से भागना छोड़ , खुद की तलाश में निकल जाएगी , अपना मान करना और पूरे दावे के साथ अपनी बात रखना जान पाएगी , उसी दिन से प्यार पर उसका भी उतना ही हक होगा , जितना किसी मर्द का और उसी दिन से प्यार उसके लिए खतरा नहीं बल्कि उसकी जिंदगी होगा .”

Simone De Beauvoir.

13 – ” वह एक पैदा नहीं हुआ है , बल्कि एक महिला बन गया है .”

Simone De Beauvoir.

14 – ” एक पुरुष अपने आप को महिला के साथ संलग्न करता है कि वह उसका आनंद न ले , बल्कि खुद उसका आनंद ले .”

Simone De Beauvoir.

15 – ” सभी उत्पीड़न युद्ध की स्थिति पैदा करते हैं और यह कोई अपवाद नहीं है . “

Simone De Beauvoir.

16 – ” किसी के शरीर में आत्म विश्वास खोना स्वयं में आत्म विश्वास खोना है .”

Simone De Beauvoir.

Simone De Beauvoir के विचारों को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें .

धन्यवाद ।

इन्हें भी पढ़े –

Leave a Reply