Franz Kafka Best Quotes : फ्रांज काफ्का के विचार.

Franz Kafka का जन्म 3 जुलाई 1883 में प्रागबोहेमिया , बोहेमियन क्रउन , ऑस्ट्रिया में एक मध्य वर्गीय जर्मन भाषी यहूदी परिवार में हुआ था .

Franz Kafka ने एक वकील के रूप में खुद को प्रशिक्षित किया . और कानूनी पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्हें एक बीमा कंपनी ने अपने यह नौकरी दी . अपने खाली समय में उन्हें लेखन ने लिखने पर मजबूर कर दिया . Franz Kafka का नाम कई महिलाओं से जुड़ा था लेकिन कभी शादी नही की .1924 में तपेदिक से 40 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई.

आइए जानते हैं Franz Kafka के विचारों के बारे में.

 
 
 
 

 

1- ” मैं एक पिंजरा हूँ , और मैं एक चिड़िया की तलाश में हूँ .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
2- ” एक पुस्तक हमारे अंदर जमे हुएसमुद्र के लिए एक कुल्हाड़ी की तरह है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 

                                                                                    

3- ” बहुत सी किताबें स्वयं के महल में महत्वपूर्ण कक्ष की चाबी की तरह है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
4- ” मैं स्वतंत्र हूँ और यही कारण है कि मैं हार गया .”

Franz Kafka.

 
 
 
 

 

5- ” जीवन का अर्थ ही रुकना है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
6- ” सभी भाषाएं अपने खराब अनुवाद के साथ मौजूद हैं.”

Franz Kafka.

 
 
 
 
7- ” मुझे लगता है कि हमें केवल उन किताबों को पढ़ना चाहिए जो हमें घायल करती हैं और हमें मारती है.”

Franz Kafka.

 
 
 
 
8- ” मुझे स्वयं के लिए सच्ची भावना तभी आती है जब मैं असहाय और दुखी होता हूँ .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
9- ” यह केवल खुद की मूर्खता के कारण है कि वे स्वयं के प्रति इतने आश्वस्त है. “

Franz Kafka.

 
 
 
 

 

10- ” समझ की शुरुआत का पहला संकेत इच्छा मृत्यु है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
11- ” मैं जंजीरों में कैद हूँ . मेरी जंजीरों को मत छुओं .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
12- ” ब्राह्मडं में जीवन की अनंत संभावनाएंं है …. लेकिन वो हमारे लिए नहीं .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
13- ” मैं आमतौर पर समस्याओंं को हल करके उन्हें खा जाता हूँ .”

Franz Kafka.

 
 
 
 

 

14- ” किताबें एक मादक पदार्थ है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
15- ” मैंने अपनी इच्छाओं का विरोध करते हुए अपना सारा जीवन बिताया है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 
17- ” हमेशा घमंड और शालीनता के प्रकोप के बाद पहले ताजी सांस ले. “

Franz Kafka.

 
 
 
 
18- ” जब तक कोई शरण के लिए आपके पास नहीं आता है , तब तक शब्दों का आनंद कैसे लिया जा सकता है .”

Franz Kafka.

 
 
 
 

 

19- ” सो गया , जग गया, सो गया , जग गया , एक दु:खी जीवन है.”

Franz Kafka.

 
 
 
 
20- ” आलस्य सब समस्यओं की शुरुआत है , यह सभी अवगुणों का मुकुट है .”

Franz Kafka.

 
 

Franz Kafka के विचारों को अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें.

धन्यवाद .

 
इन्हें भी पढ़े –
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

Leave a Reply